Bank FD: ग्राहकों की हुई चांदी, इस सरकारी बैंक ने बढ़ा दिया एफडी पर ब्याज, 399 दिन के डिपॉजिट पर मिलेगा 8% इन्टरेस्ट

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने बैंक एफडी के ब्याज दरों में इजाफा किया है। बैंक वरिष्ठ नागरिकों को 0.50 प्रतिशत एक्स्ट्रा ब्याज ऑफर कर रहा है।

bank fd

Bank FD Rates: पब्लिक सेक्टर के यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया ने फिक्स्ड डिपॉजिट के ब्याज दरों में बदलाव किया है। 2 करोड़ से कम के एफडी लिए नई ब्याज दरें 1 जून से प्रभावी हो चुकी हैं। वरिष्ठ नागरिकों को बैंक 0.50 प्रतिशत अधिक ब्याज ऑफर कर रहा है। वहीं सुपर सीनियर सिटीजन को सामान्य नागरिकों की तुलना में 0.75% अधिक ब्याज मिलेगा।

इतने दिन के एफडी पर मिल रहा सबसे ज्यादा रिटर्न

सबसे ज्यादा इंटरेस्ट 399 दिनों के एफडी पर मिल रहा है। इंटरेस्ट रेट 7.25 प्रतिशत है। वहीं वरिष्ठ नागरिकों के लिए ब्याज 7.75 प्रतिशत हैं।  सुपर सीनियर सिटीजन को इस टेन्योर पर सामान्य नागरिकों की तुलना में 0.75% एक्स्ट्रा ब्याज मिलेगा, दरें 8% हैं।

इन टेन्योर मिलेगा 6.5% ब्याज

5 साल से लेकर 10 साल की एचडी पर 6.50% ब्याज बैंक ऑफर कर रहा है। इसके अलावा 3 साल से लेकर 5 साल के डिपॉजिट, 3 साल के टेन्योर, 1000 दिन से लेकर 3 साल से कम के एफडी,  2 साल से लेकर 398 दिन के अवधि और 400 दिन से लेकर 2 साल के डिपॉजिट पर भी यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया 6.50% ब्याज सामान्य नागरिकों को दे रहा है।

इन टेन्योर पर मिल रहा 6% से ज्यादा रिटर्न

999 दिन के टेन्योर पर 6.40% ब्याज मिल रहा है। 1 साल और एक साल से लेकर 398 दिन के एफडी पर 6.75% ब्याज मिल रहा है। 181 दिन से लेकर 1 साल से कम के डिपॉजिट पर 6.25% ब्याज बैंक ऑफर कर रहा है।

शॉर्ट टर्म एफडी के लिए ब्याज दरें

7 दिन से लेकर 14 दिन के एफडी पर 3.50%, 15 दिन से लेकर 30 दिन के डिपॉजिट पर 3. 50%, 31 दिन से लेकर 45 दिन के टेन्योर पर 3.50%, 46 दिन से लेकर 90 दिन के एफडी पर 4.5 प्रतिशत, 91 दिन से लेकर 120 दिन के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 4.80% और 121 दिन से लेकर 180 दिन के अवधि पर 4.90% ब्याज बैंक ऑफर कर रहा है।

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News