GST Collection: एग्जिट पोल के बीच आई बड़ी गुड न्यूज, मई में 10% बढ़ा जीएसटी संग्रह, 1.73 लाख करोड़ के पार पहुंचा कलेक्शन

वित्तमंत्रालय ने जीएसटी संग्रह के नए आँकड़े जारी लिए हैं। मई में जीएसटी कलेक्शन में सालाना आधार पर 10% की वृद्धि हुई है।

gst collection

GST Collection: चुनाव चुनाव के नतीजे जारी होने में अभी कुछ दिन बाकी हैं। लेकिन इससे पहले से अर्थव्यवस्था को लेकर बड़ी खुशखबरी सामने आई है। मई में जीएसटी संग्रह में भारी उछाल देखा गया है। शनिवार को वित्त मंत्रालय ने नए आँकड़े भी जारी कर दिए हैं। सालाना आधार पर जीएसटी कलेक्शन में 10% का इजाफा हुआ है। हालांकि आँकड़े अप्रैल 2024 से कम हैं। पिछले महीने सरकार ने जीएसटी राजस्व संग्रह से कुल 1.73 लाख रुपये जुटाए हैं। वहीं वित्तवर्ष 2024-25 (मई 2024 तक) में जीएसटी कलेक्शन 3.83 लाख करोड़ रुपये रहा।

अप्रैल की तुलना में कलेक्शन में आई कमी

बता दें मई 2023 में जीएसटी कलेक्शन 1, 57,090  करोड़ रुपये था। वित्तवर्ष 2023-24 के दौरान सबसे अधिक कलेक्शन अप्रैल में हुआ था, जिसका मूल्य 1,87,035 लाख रुपये था। अप्रैल 2024 में जीएसटी संग्रह 2,10,267 करोड़ रुपये था। आंकड़ों के मुताबिक इम्पोर्ट में 4.3% की कमी आई है। घरेलू लेनदेन में भी वृद्धि हुई है। वहीं पिछले वित्तवर्ष में एक बार भी जीएसटी संग्रह का आंकड़ा 2,00,000 करोड़ रुपये के पार नहीं गया था।

क्या कहते हैं सरकारी आँकड़े?

वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक रिफन्ड के बाद वित्तवर्ष 2024-25 में नेट रेवेन्यू ग्रोथ 11.6% रहा। वहीं मई में डॉमेस्टिक ग्रॉस जीएसटी रेवेन्यू ग्रोथ 15.3% रहा। सीजीएसटी (सेंट्रल गुड्स सर्विसेज़ टैक्स) कलेक्शन 32,,409 करोड़ रुपये रहा। वहीं एसजीएसटी (स्टेट गुड्स एंड सर्विसेज़ टैक्स) कलेक्शन 40,265 करोड़ रुपये रहा। निर्यात पर राजस्व संग्रह 39,879 करोड़ रुपये रहा, कुल आईजीएसटी कलेक्शन 87,781 करोड़ रुपये रहा।

 सकल जीएसटी संग्रह में हुआ इजाफा

घरेलू लेनदेन में 14.2% और आयात में 1.4% की बढ़ोत्तरी के कारण सकल जीएसटी संग्रह में इजाफा देखा गया। साल-दर-साल 11.3% की वृद्धि के साथ सकल जीएसटी संग्रह 3.83 लाख करोड़ रुपये तक पहुँच चुका है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"