निजी कर्मचारियों के लिए राहत भरी खबर, 9.3% वेतन वृद्धि पर आई बड़ी अपडेट, सैलरी में आएगा उछाल

सितंबर में Aon के वेतन सर्वेक्षण में India Inc द्वारा 9.4% बढ़ोतरी का अनुमान लगाया गया था।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। भारतीय कंपनियां (Indian companies) 2022 में 7th pay commission के तहत निजी कर्मचारियों के लिए कम से कम 9.3% वेतन वृद्धि (salary increment) की पेशकश कर सकती हैं। यह आंकड़ा एशिया-प्रशांत में सबसे अधिक होने का अनुमान लगाया जा रहा है। दरअसल अगले 12 महीनों में बेहतर व्यावसायिक दृष्टिकोण पर रिटर्न और उच्च स्तर पर एट्रिशन जारी है। इस मामले में वैश्विक सलाहकार और परामर्श फर्म (Global Consulting and Consulting Firms) विलिस टावर्स वॉटसन ने एक ताजा वेतन बजट योजना रिपोर्ट तैयार की है।

जिसके मुताबिक भारतीय कंपनियां 2022 में कम से कम 9.3% वेतन वृद्धि की पेशकश कर सकती हैं। भारत के विपरीत, एशियाई समकक्ष चीन को 6% वृद्धि का भुगतान करने का अनुमान है, सिंगापुर और ऑस्ट्रेलियाई फर्म लगभग 3.8% वेतन वृद्धि की पेशकश कर सकते हैं और वियतनाम को कर्मचारियों को 8% वृद्धि की पेशकश करने का अनुमान है, जो एक उज्ज्वल घरेलू आर्थिक दृष्टिकोण का संकेत देता है।

सितंबर में Aon के वेतन सर्वेक्षण में India Inc द्वारा 9.4% बढ़ोतरी का अनुमान लगाया गया था। विलिस टावर्स वाटसन सर्वेक्षण ने बुधवार को कहा कि आईटी, खुदरा और फार्मा क्षेत्र 2022 में पे मास्टर होने की संभावना है। 2022 में वेतन वृद्धि 2021 में दी गई 8% वृद्धि से अधिक होगी क्योंकि कंपनियां “महामारी के आर्थिक दौर से उभर रही हैं और कर्मचारियों को आकर्षित करने और बनाए रखने वाली बढ़ती चुनौतियों का सामना करती हैं।

Read More: CBSE Board 2021-22: मंडल ने 10वीं-12वीं छात्रों को दी बड़ी राहत, लिया ये बड़ा फैसला

भारतीय कंपनियों के वेतन में 2021 में 8% की वास्तविक औसत वेतन वृद्धि की तुलना में अगले वर्ष 9.3% की औसत वेतन वृद्धि देखने का अनुमान है। एक बड़े उभरते बाजार के रूप में, भारत एशिया प्रशांत क्षेत्र में 2021 के लिए उच्चतम वेतन वृद्धि का अनुमान लगा रहा है। इसके अलावा इंडोनेशिया में 6.9%, चीन में 6.0%, ऑस्ट्रेलिया में 3.8%, वियतनाम में 8% और सिंगापुर में 3.9% की वृद्धि देखने का अनुमान है।

एक बहुप्रतीक्षित आर्थिक सुधार की ओर इशारा करते हुए भारत में बहुसंख्यक (52.2%) कंपनियों ने अगले 12 महीनों के लिए सकारात्मक व्यावसायिक राजस्व दृष्टिकोण का अनुमान लगाया है, जो कि Q4-2020 में 37% से ऊपर है। यह अगले 12 महीनों में 30% कंपनियों को काम पर रखने की योजना के साथ व्यवसायों में बढ़ी हुई भर्ती पर भी गौर कर रहा है। वहीँ यह भर्ती पिछले साल की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक है।

सर्वेक्षण से यह भी पता चलता है कि सभी क्षेत्रों में काम पर रखने का एक बड़ा हिस्सा इंजीनियरिंग (57.5%), सूचना प्रौद्योगिकी (53.4%), तकनीकी रूप से कुशल ट्रेड (34.2%), बिक्री (37%) और वित्त (11.6) जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में भर्ती और वेतन वृद्धि की संभावना है। और इन नौकरियों में कर्मचारियों को उच्च वेतन प्राप्त होगा।

सर्वेक्षण में कहा गया है कि उच्च तकनीक क्षेत्र (high tech sector) में 2022 में 9.9% की उच्चतम वेतन वृद्धि देखने की उम्मीद है। इसके बाद उपभोक्ता उत्पादों और खुदरा क्षेत्र (Consumer products and retail) में 9.5%, विनिर्माण 9.30% और वित्तीय सेवाओं और फार्मा क्षेत्र दोनों में 9% की वेतन वृद्धि की पेशकश की जाएगी। दूसरी ओर, ऊर्जा क्षेत्र को 2021 में सबसे कम वास्तविक वेतन वृद्धि 7.7% प्राप्त हुई। 2022 में ऊर्जा क्षेत्र का अनुमानित वेतन भी सबसे कम 7.9% है।