UPSC Prelims 2021: पिछली बार के मुकाबले पेपर रहा टफ,कम हो सकता है कट–ऑफ !

कट ऑफ पिछले साल के मुताबिक कम जाने की संभावना जताई जा रही है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आंखों में IAS बनने का सपना लिए हजारों छात्र आज UPSC (संघ लोक सेवा आयोग) की प्रीलिम्स परीक्षा में उपस्थित हुए। देश भर के 83 शहरों में बनाए गए परीक्षा केंद्रों पर यह परीक्षा आयोजित की गई। परीक्षा के लिए मध्यप्रदेश में कुल 57 सेंटर बनाए गए , जिसमें करीब 20 हजार 765 छात्रों ने सिविल सेवा परीक्षा 2021 (UPSC Prelims 2021) दी। 712 पदों पर भर्ती के लिए हो रही इस परीक्षा में देश भर से लगभग 10 लाख के करीब आवेदन आए हैं।

UPSC Prelims 2021: पिछली बार के मुकाबले पेपर रहा टफ,कम हो सकता है कट–ऑफ !

 

दो चरणों की इस परीक्षा का प्रथम चरण जो कि सुबह 10 बजे से आयोजित होना था, पूर्णं हो चुका है और जिसके बाद अब सामान्य अध्यन के पेपर–1 के कट–ऑफ और कठिनाई के लेवल को लेकर कयास लगना चालू हो चुके हैं।

इस योजना से मिलेगी 36000 रुपये सालाना पेंशन, जानें कैसे उठा सकते है लाभ

यूपीएससी के नियमों के अनुसार जो छात्र सिविल सेवा परीक्षा के लिए आवेदन करते हैं उन्हें मुख्य रूप से सामन्य अध्यन के पेपर–1 में कट ऑफ के बराबर या उससे ज्यादा अंक लाने पड़ते हैं। बात करें पेपर– 2 (CSAT) की तो यह उन्हें केवल क्वालीफाई करना होता है।

मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2021 की प्रारंभिक परीक्षा के paper–1 की बात करें तो छात्रों के मुताबिक इसका लेवल पिछली बार के मुकाबले कठिन था और उम्मीद की जा रही है कि 2020 के मुकाबले 2021 की परीक्षा का कट थोड़ा ऑफ नीचे जाएगा। बता दें पेपर में चीन और महामारी के जुड़े हुए कई प्रश्न देखने को मिले। इतना ही नहीं, खेल जगत से जुड़े सवालों ने भी छात्रों को परेशान करने में कोई कमी नहीं छोड़ी। छात्रों के मुताबिक Assertion–Reasoning से जुड़े सवालों ने भी छात्रों को पूरी तरह कन्फ्यूज़ कर दिया ।

Ticket कैंसिल करने पर अब तुरंत मिलेगा रिफंड, उठायें IRCTC की इस सेवा का लाभ

बात करें पेपर–2 तो इसमें छात्रों को केवल 33% या कहें सिर्फ 66 नंबर लाने होते हैं जिसके बाद वे पेपर –1 के अंकों को देखते हुए मुख्य परीक्षा के लिए योग्यता देखी जाती है। हर सही जवाब के लिए छात्रों को +2 अंक दिए जाते हैं और हर गलत सवाल के लिए 2/3 नंबर सही जवाबों में से काट लिए जाते हैं। अगर बात करें पेपर को देखते हुए कट ऑफ की तो इस साल का कटऑफ 87 से 92 के बीच होने की उम्मीद जताई जा रही है। अब देखना होगा कि रिजल्ट घोषित होने के बाद कौन अपने सपने के करीब पहुंचता है और किसे फिर से सपने को साकार करने की लड़ाई ज़ारी रखनी होगी।