टिकट पर संकट, साधना सिंह की दावेदारी पर घर में ही विरोध

-Crisis-on-ticket--relative-opposed-to-sadhna-singh-for-contest-election-from-vidisha

भोपाल|  लोलोकसभा चुनाव के लिए टिकट को लेकर जबरदस्त घमासान शुरू हो गया है| विदिशा लोकसभा क्षेत्र से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह को चुनाव लड़ाने जहां उनके समर्थक आगे आकर टिकट की मांग कर रहे हैं और अभियान चला रहे हैं| वहीं साधना का घर में ही विरोध हो गया है| उनके रिश्तेदार रवीश चौहान ने शिवराज सिंह की पत्नी साधना के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। 

पूर्व किसान मोर्चा के प्रदेश महामंत्री रवीश चौहान ने ऐलान किया है कि साधना सिंह को अगर विदिशा से टिकट मिला तो वे उनके खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे| उनका कहना है कि शिवराज सिंह चौहान बुधनी से चुनाव लड़ते हैं और पत्नी साधना सिंह विदिशा से दावेदारी कर रही है, ऐसे में आम कार्यकर्ता कहां जाएंगे। उन्होंने विदिशा से टिकट मांगा है और ये साफ कर दिया है शिवराज सिंह चौहान के अलावा अगर कोई भी इस सीट से चुनाव लड़ेगा तो उसका क्षेत्र में विरोध होगा। 

किसान मोर्चा के प्रदेश महामंत्री रह चुके रवीश चौहान ने यह भी कहा है कि अगर साधना सिंह जिताऊ उम्मीदवार हैं तो प्रदेश की किसी दूसरी सीट से चुनाव लड़ें। उन्होंने साधना सिंह के गुना या छिंदवाड़ा सीट से चुनाव लड़ने की बात भी कही है। उन्होंने कहा कि साधना सिंह को खुद आगे आकर दावेदारी से इंकार कर देना चाहिए। क्योंकि ऐसा नहीं करने की सूरत में शिवराज सिंह चौहान पर वंशवाद का आरोप लगेगा।  

विदिशा में ब्राह्मण समाज का विरोध 

विदिशां में भी साधना के चुनाव लड़ने का विरोध शुरू हो गया है| युवा ब्राह्मण विकास परिषद के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य एवं भाजपा नगर मंडल गंजबासौदा के पूर्व अध्यक्ष राजेश शर्मा को भारतीय जनता पार्टी संगठन द्वारा अकारण राजनीतिक द्वेष भावना से हटाए जाने के विरोध में विदिशा एवं सागर लोकसभा क्षेत्र का ब्राह्मण समाज नाराज है। युवा ब्राह्मण विकास परिषद के प्रदेश अध्यक्ष मानवेंद्र शर्मा एवं विदिशा के जिला अध्यक्ष पंडित विजय दीक्षित का कहना है कि आने वाले समय में अगर साधना सिंह चौहान को विदिशा लोक सभा से भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रत्याशी बनाया जाता है तो विदिशा सहित सागर लोकसभा क्षेत्र में भी ब्राह्मण समाज एवं युवा ब्राह्मण विकास परिषद पदाधिकारियों द्वारा योजनाबद्ध तरीके से पार्टी के विरुद्ध मतदान कराया जाकर विरोध दर्ज करेगा।