सीएम शिवराज की अफसरों के साथ आपात बैठक, ज्यादा आबादी वाले क्षेत्रों में लॉकडाउन पर विचार

सीएम शिवराज ने कहा कि अब से लॉकडाउन के स्थान पर कोरोना कर्फ्यू शब्द का उपयोग किया जाए। जिससे लोगों के अंदर कोरोना को लेकर सतर्कता बनी रहे।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने कैबिनेट बैठक (cabinet meeting) के बाद अफसरों की आपातकालीन बैठक बुलाई थी। जहां सघन आबादी वाले शहरी इलाकों में लंबा लॉकडाउन लगाने पर विचार किया जा रहा है। हालांकि इसकी शुरुआत भी राजधानी भोपाल से की जा चुकी है।

वहीं अफसरों के साथ मीटिंग करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए शनिवार और रविवार को लॉकडाउन रखा जाएगा। इसके साथ ही सीएम शिवराज ने कहा कि अब से लॉकडाउन के स्थान पर कोरोना कर्फ्यू शब्द का उपयोग किया जाए। जिससे लोगों के अंदर कोरोना को लेकर सतर्कता बनी रहे।

इसके साथ ही सीएम शिवराज ने कहा कि जिले में स्थिति के अनुसार कंटेनमेंट जोन बनाया जाए और छोटे-छोटे कंटेनमेंट जोन में कोरोना कर्फ्यू की स्थिति लागू की जाए। वही सीएम शिवराज ने अफसरों को जिले की स्थिति पर नजर बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। सीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश की जनता के स्वास्थ्य की रक्षा सरकार का दायित्व है और इसमें किसी भी तरह की कोताही नहीं बरती जाएगी।

Read More: सोयाबीन किसानों को बड़ी राहत, भावों में हुई रिकॉर्ड बढ़ोतरी

इसके अलावा अफसरों को प्रदेश में 82,000 वालंटियर को दायित्व दिए जाने के निर्देश दिए गए हैं। यह वॉलिंटियर मास्क उपयोग, जागरूकता अभियान, रोको टोको अभियान जैसे कार्य करेंगे। वही विशेष ऐप निर्मित कर व्यवस्थाओं को रिव्यू भी किया जाएगा। सीएम शिवराज ने अधिकारियों को निर्देश है कि कोबिड केयर सेंटर को अधिक सक्षम बनाया जाए। इसके साथ ही ऑक्सीजन तथा अन्य मेडिकल व्यवस्थाएं भी रखी जाए।

इसके साथ ही पुलिस प्रशासन और जन अभियान परिषद को एक साथ मिलकर काम करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही जनता और सरकार के बीच वॉलिंटियर को सेतु की भूमिका सुनिश्चित करने के निर्देश सीएम शिवराज ने दिए।