मध्य प्रदेश

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के MSME रिकवरी मॉडल को गुजरात सरकार (Gujrat Government) अपनाएगी।इसके लिए आज गुरुवार को मध्य प्रदेश के मॉडल का गुजरात के दल ने भोपाल (Bhopal) में आकर अध्ययन किया। गुजरात के अधिकारियों ने बताया कि मध्यप्रदेश की रिकवरी संबंधी कार्यवाही एवं अभिलेख को गुजरात में जल्दी ही लागू किया जायेगा।

यह भी पढ़े… केंद्र का मप्र के किसानों को बड़ा तोहफा, कृषि मंत्री बोले- संकल्प को पूरा करके दिखाया

दरअसल, गुजरात सरकार अब मध्यप्रदेश सरकार के एमएसएमई इंटरप्राइजेज फेसिलिटेशन काउंसिल (MSME Enterprises Facilitation Council) यानि सुदृढ़ीकरण परिषद के मॉडल को अपनाएगी। गुरुवार को गुजरात के अधिकारियों के दल ने मध्यप्रदेश के मॉडल का अध्ययन किया और इसे अपने प्रदेश में लागू करने की बात कही।

एमएसएमई के सचिव सह उद्योग आयुक्त विवेक अग्रवाल ने बताया कि गुजरात शासन के सचिव अजीत सिंह ने मध्य प्रदेश में उद्योगों के वित्तीय लेनदेन में 45 दिन की समय-सीमा के बाद होने वाले विवाद की स्थिति में समझौते आदि करवाने के लिए प्राधिकरण की गतिविधियों में रुचि प्रदर्शित की है। उन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश में इस तरह के प्रकरणों में वसूली के लिए आर आर सी जारी कर वसूली का भी प्रावधान है।

यह भी पढ़े.. MP के किसानों को लेकर एक और बड़ा फैसला, 2 लाख परिवारों को मिलेगा लाभ

मंत्रालय वल्लभ भवन में गुजरात सरकार के एमएसएमई विभाग(MSME Department) के शशि भूषण दुबे सहायक संचालक एवं अनुश्री सक्सेना सहायक प्रबंधक द्वारा गुजरात मध्यप्रदेश में MSEFC की वर्तमान प्रचलित कार्यवाही एवं अवार्ड पारित आदेश के निष्पादन की प्रक्रिया को बारीकी से समझा। इस दल को उद्योगों सम्बन्धी प्रभावी रिकवरी संबंधी कार्यवाही के अभिलेख एवं प्रक्रिया का मार्गदर्शन एवं प्रशिक्षण MSME मध्यप्रदेश के उपसंचालक राजेश अग्रवाल और अधिकारियों द्वारा दिया गया।