एमपी में घट जायेगी भाजपा विधायकों की संख्या, इस सीट पर होगा उप चुनाव!

19648
Ratlam-Vidhansabha-seat-vacant-after-gs-damor-won-loksabha-election

भोपाल।  मध्य प्रदेश में मुख्य विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी पहले से ही कम विधायकों के कारण प्रदेश में सरकार बनाने में नाकाम रही है। अब एक सीट और बीजेपी के खाते से कम हो गई है। मध्य प्रदेश की झाबुआ-रतलाम लोकसभा सीट से झाबुआ विधायक जीएस डामोर चुनाव जीते हैं। अब उनके सांसद बनने के बाद उन्हें विधायकी से इस्तीफा देना होगा। जब तक वह इस्तीफा नहीं देते और उप चुनाव का एलान नहीं होता तब तक यह सीट बीजेपी के पास रहेगी। 

दरअसल, मध्य प्रदेश में बीजेपी की 109 विधायक विधानसभा चुनाव में जीत कर आए थे। हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में पार्टी ने रतलाम से विधायक जीएस डामोर को लोकसभा प्रत्याशी घोषित किया था। कुल 1400509 वोटों में से गुमानसिंह डामोर को 696103 मत मिले और कांतिलाल भूरिया को 605467 मत मिले। 90636 मतों से भाजपा की जीत हुई। इसमें रतलाम शहर व ग्रामीण से कुल 88 हजार की बढ़त शामिल है। भाजपा को 49.7 व कांग्रेस को 43.2 प्रतिशत मत मिले। इस तरह डामोर के संसद जाने से राज्य विधानसभा में बीजेपी के 108 विधायक हो गए हैं। अब झाबुआ विधानसभा सीट खाली हो जाएगी। ऐसे में यदि डामोर लोकसभा की सदस्यता लेते हैं तो मप्र विधानसभा में भाजपा की संख्या कम हो कर 108 रह जाएगी।

गौरतलब है कि  पिछली बार इस सीट पर उपचुनाव हुआ था, जिसमें कांतिलाल भूरिया ने जीत दर्ज की थी। लेकिन इस बार यहां उनका जादू नहीं चला। लोकसभा चुनाव के सांतवें चरण में रतलाम लोकसभा सीट पर 75.47 प्रतिशत मतदान हुआ। 2014 में मोदी लहर में भाजपा के दिलीप सिंह भूरिया यहां से सांसद चुने गए थे, लेकिन एक साल बाद ही उनका निधन हो गया और बाद में हुए उपचुनाव में कांतिलाल भूरिया भाजपा से यह सीट छीनने में कामयाब रहे थे। रतलाम-झाबुआ संसदीय सीट के तहत आठ विधानसभा सीटें आती हैं। पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में इन आठ में से पांच कांग्रेस और तीन भाजपा ने जीती थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here