बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत, पुनर्वास और पुनर्निर्माण का काम जारी, सीएम शिवराज ने दिए ये निर्देश

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सीएम शिवराजस सिंह चौहान ने श्योपुर और शिवपुरी के बाढ़ प्रभावित इलाकों के बाद वहां चल रहे राहत बचाव कार्यों पर संतोष जताया है। उन्होंने कहा कि हम लगातार तीन मुद्दों पर काम कर रहे हैं जिनमें राहत, पुनर्वास और पुनर्निर्माण शामिल है। सीएम ने कहा कि “हम बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत, पुनर्वास, पुनर्निर्माण का कार्य तेजी से कर रहे हैं। फसलों की क्षति के आकलन में समय लगेगा, लेकिन तात्कालिक राहत राशि, अनाज का प्रबंध, गिर गये मकानों के निर्माण के लिए 1 लाख 20 हजार रुपये की राशि का भी वितरण प्रारंभ कर दिया गया है।”

सोयाबीन की खराब हुई फसलों को लेकर देवास में कांग्रेस ने निकाली रैली, कलेक्टर कार्यालय पर हंगामा कर सौंपा ज्ञापन

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नुकसान का पारदर्शी सर्वे कराए जाने के निर्देश दे दिये गये हैं। कोई भी प्रभावित छूटना नहीं चाहिए, चाहे सर्वे दो बार या तीन बार करना पड़े। प्रशासन को निर्देश दिए गए कि उदारतापूर्वक सर्वे का कार्य किया जाए, जिनके मकान टूटे हैं अथवा ध्वस्त हो गये हैं, उन्हें मकान बनाने के लिए 1 लाख 20 हजार रूपये की राशि दिये जाने का प्रावधान किया है। यह राशि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के प्रभावितों को दी जाएगी। 6-6 हजार रूपयें की राशि तात्कालिक रूप से आवास व्यवस्था तथा गृहस्थी के सामान के लिए 5-5 हजार रूपये की राशि प्रदाय कर दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि फसलों के नुकसान के लिए सर्वे कराया जाएगा तथा क्षति का आंकलन कर नुकसान की भरपाई की जाएगी। किसी भी व्यक्ति की राहत राशि में से कोई भी बैंक किसी भी प्रकार की राशि नहीं काटेगा। ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए उन्होंने कलेक्टर को निर्देशित किया है।

सीएम ने कहा कि सीप एवं अहेली नदियों के बाढ़ प्रभावितों के लिए कोई कोर कसर नही छोड़ी जाएगी। बड़ौदा एवं मानपुर क्षेत्र के सभी गांवों में राहत कार्य चलाये जा रहे हैं। क्षतिग्रस्त सड़कों एवं पुल, पुलियाओं के निर्माण चल रहे हैं। नदी किनारे की बसाहटों के पुर्नवास के लिए ग्रामीणों की सहमति से योजना बनाई जाएगी। कूनो-सीप नदी के टूटे पुलों को शीघ्र बनवाकर यातायात सुचारू किया जाएगा। बाढ़ से खेतों में जमा शिल्ट को सरकारी खर्चे पर हटाया जाएगा और क्षतिग्रस्त चंबल नहर की मरम्मत का कार्य कराया जाएगा।