नहीं बढ़ता है गन्ने के रस से वजन, इस गर्मियों में खूब पिएं रस, ये होंगे फायदे

गन्ने का रस शरीर को डिटॉक्स करता है,  इसमें नेचुरल शुगर के अलावा एंजाइम्स और विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं।

sugacane juice

हेल्थ, डेस्क रिपोर्ट। गर्मियां आई नहीं कि गन्ने के रस के ठेले बहुत आसानी से दिखाई देने लगते हैं। नेचुरल मिठास से भरा गन्ने का ठंडा ठंडा रस गर्मी पर भारी पड़ता है लेकिन डाइट कॉन्शियस लोग गन्ने का रस पीने से कतराते हैं। जाहिर है डर यही है कि इससे कहीं वजन न बढ़ जाए, जबकि गन्ने का रस अगर संतुलित मात्रा में पिया जाए तो वजन बढ़ाने की जगह शरीर के लिए फायदेमंद ही साबित होता है।

यह भी पढ़े.. भोपाल-जबलपुर से जाने वाली इन ट्रेनों के रूट बदले, ये ट्रेनें 30 अप्रैल तक रद्द, 5 ट्रेन के प्रायोगिक स्टाप

अधिकांश न्यूट्रिशनिस्ट तो लंबे और थका देने वाले वर्कआउट के बाद गन्ने का रस पीने की सलाह भी देते हैं, अगर आफ ऐसी डाइट फॉलो कर रहे हैं जिससे वजन घटे तो आपके लिए ये जानना बहुत जरूरी है कि गन्ने के रस में कितनी कैलोरीज हैं। क्या वाकई इसे पीने से बढ़ेगा?

चलिए गन्ने के रस की न्यूट्रिशनल वैल्यू को समझने की कोशिश करते हैं…

ये है गन्ने की न्यूट्रिशनल वैल्यू

एक गिलास गन्ने के रस में आप 250 कैलोरी मान सकते हैं, ये वैल्यू तब होगी जब गन्ने के रस में कोई प्रिजरवेटिव या एडिटिव्स नहीं होंगे। ताजा रस कम कैलोरी वाला होता है, जिसमें नेचुरल शुगर की मात्रा बहुत कम होती है। गन्ने के रस में फाइबर या प्रोटीन नहीं होते, लेकिन सोडियम, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम और आयरन भरपूर होता है।

गन्ने के रस के फायदे

  • गन्ने का रस सिर्फ भारत ही नहीं दुनियाभर में मशहूर है, कई विदेशी यूनिवर्सिटीज इस पर रिसर्च भी कर चुकी हैं। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार आप एक दिन में छह से नौ बड़े चम्मच शक्कर खा सकते हैं।
  • गन्ने के रस के गिलास में तीस ग्राम तक शक्कर हो सकती है, यानि गन्ने का रस हाई शुगर वाला पेय है,  हालांकि ये नेचुरल शुगर है जो नुकसान नहीं करती ।
  • गन्ने का रस शरीर को डिटॉक्स करता है,  इसमें नेचुरल शुगर के अलावा एंजाइम्स और विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं।
  • रिफाइन्ड शुगर के मुकाबले गन्ने का रस किडनी के लिए भी फायदेमंद है, ये मूत्रवर्धक होता है जिससे किडनी की सफाई होती है।

गन्ने का रस पीने का सही तरीका और समय

गन्ने का रस आपके लिए फायदेमंद ही साबित हो इसके लिए उसके सेवन का समय सही होना चाहिए। अक्सर लोग रात में गन्ने का रस पीने निकल जाते हैं। इसकी बजाए सुबह या दोपहर में गन्ने का रस पिएं। वर्कआउट के बाद भी गन्ने का रस पिया जा सकता है। आयुर्वेद में इस तरह के रस को बैठकर पीने की सलाह दी जाती है, इसलिए जूस पीते समय बैठना ही मुनासिब होगा। ये भी ध्यान रखें कि बहुत ज्यादा बर्फ वाला गन्ने का रस आपको नहीं पीना है।