छोटे मगर असरदार नारों से माहौल बना रहे ब्रिटेन में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार

ब्रिटेन में कंजरवेटिव पार्टी की तरफ से जल्द ही प्रधानमंत्री का नाम तय कर लिया जाएगा।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। बोरिस जॉनसन द्वारा ब्रिटेन के पीएम पद से इस्तीफा देने के बाद देश के नए प्रधानमंत्री की खोज अब तेज हो गई है। भारतवंशी ऋषि सुनक इस प्रक्रिया में बढ़त बनाए हुए है, लेकिन इस बीच देश में राजनेता लोगों से जुड़ने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पर, आकर्षित हैशटैग और स्लोगन का जमकर इस्तेमाल कर रहे है।

बता दे, ब्रिटेन में कंजरवेटिव पार्टी की तरफ से जल्द ही प्रधानमंत्री का नाम तय कर लिया जाएगा।

छोटे और आकर्षित स्लोगन का हो रहा इस्तेमाल

पीएम की रेस में शामिल उम्मीदवार ज्यादतार तीन शब्दों के छोटे मगर आकर्षित करने वाले स्लोगन इस्तेमाल कर रहे है। बुधवार के पहले दौर के मतदान में (प्रधानमंत्री का नाम फाइनल करने के लिए एक प्रक्रिया) सबसे ज्यादा वोट हासिल करने वाले भारतीय मूल के नेता ऋषि सनक ने ‘रेडी फॉर ऋषि’ स्लोगन तैयार किया है।

ये भी पढ़े … सिंगापुर ओपन के सेमीफाइनल में पहुंची पीवी सिंधु, प्रणय-नेहवाल को मिली हार

इसके अलावा पहले दौर में दूसरे स्थान पर रहने वाले पेनी मोडरंट ‘पीएम4पीएम’ के साथ गई है, जबकि तीसरे स्थान पर रहीं लिज ट्रस ने ‘लीज फॉर लीडर’ लिया, तो वहीं कैमी बैडेनोच ने ‘कैमी फॉर प्राइम मिनिस्टर’ के साथ पीएम के रेस में मजबूत दावेदारी पेश करने कोशिश की है।

अंतिम दो स्थानों पर रहने वाले तुगेंदहट ने ‘टॉम ए क्लीन स्टार्ट’ वहीं सुएला ब्रेवरमैन ने ‘सुएला4लीडर’ स्लोगन तैयार किया है।

इस बीच जॉनसन का पुराना नारा भी चर्चा का विषय बना हुआ है, जहां उन्होंने कहा था – ‘गेट ब्रेक्सिट डन’। इस नारे ने उन्हें ब्रिटेन का पीएम बना दिया था। उन्होंने यूरोपीय संघ (European Union) छोड़ने के लिए ब्रिटेन के मतदाताओं द्वारा 2016 के जनमत संग्रह के फैसले को लागू करने में देरी के बारे में जनता की निराशा को सही ढंग से पहचाना, इसलिए उन्होंने एक छोटा और आकर्षक नारा रखा और अपने वादे को सरल तरीके से लोगों के सामने पेश किया।

ये भी पढ़े … मस्क के पिता का बड़ा खुलासा, दुनिया के सबसे अमीर शख्स है तीन साल के बच्चे के भाई

जब इस तरीके और नारे ने काम किया तो इसे देखते हुए अब पीएम की इस दौड़ में शामिल उम्मीदवारों ने वही पुरानी अवधारणा दोहराई है। यही वजह है कि ज्यादातर उम्मीदवारों ने चुनाव प्रचार के लिए महज तीन शब्दों का प्रचार संदेश तैयार किया है।