Balaghat News : शिक्षक पात्रता परीक्षा में ऋणात्मक अंक प्रक्रिया को हटाये जाने की मांग को लेकर सौंपा ज्ञापन, आंदोलन की दी चेतावनी

Amit Sengar
Published on -

Balaghat Submitted Memorandum News : मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले में शुक्रवार को परीक्षार्थियों ने बड़ी संख्या में कलेक्ट्रेट में उपस्थित होकर मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री के नाम एक ज्ञापन दिया। बता दें कि वर्ष 2018 में व्यापम द्वारा आयोजित शिक्षक पात्रता परीक्षा सहित बड़ी परीक्षा नेट, एमपी सेट और एमपीपीएससी जैसी परीक्षाओं में ऋणात्मक अंक प्रक्रिया नहीं अपनाये जाने के बावजूद वर्ष 2023 में वर्ग-1 एवं वर्ग-2 के आयोजित शिक्षक पात्रता परीक्षा में कर्मचारी चयन मंडल द्वारा इसे लागू किये जाने से शिक्षित युवाओं में आक्रोश है। शिक्षित युवाओं का कहना है कि बीते 2018 में आयोजित शिक्षक पात्रता परीक्षा एवं अन्य बड़ी परीक्षाओं में जब ऋणात्मक अंक प्रक्रिया नहीं अपनाई जाती है तो फिर कैसे शिक्षक पात्रता परीक्षा में इसे लागु किया जा रहा है, यह प्रदेश के शिक्षित युवाओं को नौकरी में आने से रोकने जैसा है।

परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यार्थियों को आजीवन पात्र माना

शिक्षित युवक ने बताया कि कर्मचारी चयन मंडल द्वारा उच्च माध्यमिक एवं माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा के आवेदन लिये जा रहे है। जिसकी परीक्षा में इस बार ऋणात्मक अंक का प्रावधान किया गया है। जबकि वर्ष 2018 में इस तरह का कोई प्रावधान नहीं था और तो और उक्त परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यार्थियों को आजीवन पात्र माना गया है। यही नहीं बल्कि भारत के किसी भी राज्यो में नेट, एमपीसेट एवं एमपीपीएससी जैसी बड़ी परीक्षाओ में भी ऋणात्मक अंक का कोई प्रावधान नहीं है। जिसे देखते हुए हमारी मांग है कि शिक्षक पात्रता परीक्षा से ऋणात्मक अंक प्रावधान को हटाया जायें और यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो परीक्षार्थी पूरे प्रदेश में आंदोलन करेंगे। जिसकी जवाबदारी प्रशासन की होगी।

Continue Reading

About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”