Balaghat: जादूटोने के शक में वृद्ध महिला की हत्या के आरोपी गिरफ्तार, साथी के साथ मिलकर की थी हत्या

बीते 17 मार्च को जादूटोने के शक में पड़ोस में रहने वाले युवक ने वृद्ध महिला की हत्या कर दी थी। मामले में पुलिस ने घटना के 24 घंटे के भीतर युवक और उसके साथी को गिरफ्तार कर लिया है।

बालाघाट,सुनील कोरे। बिरसा थाना के मछुरदा चौकी के अगरियाटोला क्षेत्र में बीते 17 मार्च को जादूटोने के शक में हुई वृद्ध महिला की हत्या मामले में पुलिस ने घटना के 24 घंटे के भीतर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या में लिप्त आरोपी पड़ोसी सवनु परते है, जिसने अपने साथी महासिंह मेरावी के साथ मिलकर वृद्ध महिला की कुल्हाड़ी से हमला कर हत्या कर दी थी।

गौरतलब हो कि 17 मार्च को बिरसा थाना अंतर्गत अगरियाटोला में वृद्ध 55 वर्षीय फगनीबाई पुसाम की उस वक्त कुल्हाड़ी से हमला कर हत्या कर दी गई थी, जब पति फुंदनसिंह पुसाम पटवारी से मिलने बिरसा गया था। दिन दहाड़े हुई हत्या की वारदात की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी के दिशा निर्देश से आरोपियों की तलाश शुरू कर दी थी। साथ ही बैहर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्याम कुमार मरावी और एसडीओपी आदित्य मिश्रा के मार्गदर्शन में बिरसा पुलिस द्वारा मृतिका महिला के पति द्वारा जाहिर किये गये संदेही सवनु बैगा को पुलिस ने पकड़ा। जिससे विवेकपूर्ण एवं मनोवैज्ञानिक तरीके से पूछताछ की गई। जिसने अपराध स्वीकार करते हुए बताया कि फुंदनसिंह पुसाम के घर पर नहीं होने की जानकारी के बाद वह अपने साथी महासिंह मेरावी के साथ मिलकर फगनीबाई के घर गया और कुल्हाड़ी से हमला कर उसकी हत्या कर दी। आरोपी सवनु बैगा की हत्या किये जाने की स्वीरोक्ति के बाद पुलिस ने उसके साथी महासिंह मेरावी को भी हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया।

ये भी पढ़े- Balaghat : रेत के अवैध भंडारण मामले में दो लोगों पर लगाया 88 लाख 68 हजार 750 रूपए का जुर्माना

बताया जाता है कि सवनु पिता तबलु बैगा की दोनो लड़कियां काफी समय से बीमार रहती थी, जिससे सवनु बैगा को महिला फगनीबाई पर जादूटोने करने का शक था। महिला फगनीबाई द्वारा किये गये जादूटोने के कारण बेटियों के बीमार रहने की शंका पर बदले लेने की नियत से सवनु बैगा ने अपने साथी महासिंह के साथ मिलकर फुंदनसिंह की गैरमौजूदगी में अकेली महिला फगनीबाई की गर्दन पर कुल्हाड़ी से हमला कर उसकी हत्या कर दी थी। बहरहाल दोनों ही आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद बिरसा पुलिस ने आरोपियों को न्यायालय में पेश किया। जहां से उन्हें न्यायिक रिमांड पर जेल भिजवा दिया गया है।

अंधे हत्याकांड की गुत्थी सुलझाकर आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी द्वारा ईनाम देने की घोषणा की है। अंधे हत्याकांड का पर्दाफाश कर आरोपी को गिरफ्तार करने में बिरसया थाना प्रभारी एसआई अवधेशसिंह भदौरिया, एएसआई शिवाजी तिवारी, एएसआई राजकुमार हिरकने, प्रधान आरक्षक कलिराम उईके, आरक्षक ब्रजलाल उईके, राजेश यादव, दीपक पटेल, गोविंद वरकड़े, रामू यादव, मानिकलाल, नितेश, अभिषेक एवं स्टॉफ की भूमिका सराहनीय रही।

ये भी पढे़- किसानों को लेकर कृषि मंत्री कमल पटेल का बड़ा फैसला, जल्द तैयार होगा मूलक प्रोजेक्ट