विधायक घनश्याम सिंह पहुंचे सेंवढ़ा, ओलावृष्टि से फसलों में हुए नुकसान का लिया जायजा, इन कार्यक्रमों में हुए शामिल

ओला वृष्टि से पीड़ित किसानों में शामिल कृषक कमल सिंह पुत्र पातीराम ने बताया कि ओला वृष्टि से खेतों में हुए नुकसान का सर्वे करने अब तक कोई राजस्व विभाग (Revenue Department) का अधिकारी, कर्मचारी नहीं आया।

सेवढा, राहुल ठाकुर। सेंवढ़ा विधायक घनश्याम सिंह गुरुवार को सेंवढ़ा क्षेत्र में विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल हुए। इस दौरान वह क्षेत्र के ओला वृष्टि से प्रभावित गांवों का दौरा करने खेतों में पहुंचे और फसलों में हुए नुकसान का जायजा लिया।
कार्यक्रम के अनुसार विधायक श्री सिंह सबसे पहले ग्राम सिलोरी पहुंचे, यहां गोरी शंकर रावत नाती 55 के ह्दयाघात (Heart attack) से असमय दुःखद निधन होने पर उनके निवास पर पहुंच कर परिजनों से मिलकर शोक व्यक्त किया। इस अवसर पर ग्राम सिलोरी के सरपंच राजेन्द्र सिंह रावत, कांग्रेस नेता केपी यादव, नोमी सिंह यादव मौजूद रहे।

ये भी पढ़े-  MP : यहां लगा 2 दिन का टोटल लॉकडाउन, प्रशासन ने जारी किए आदेश

इन्दरगढ़ कृषि उपज मंडी पहुंचकर विधायक घनश्याम सिंह ने मंडी सचिव रामकुमार गुप्ता को किसान को मंडी में बेची गई फसल का व्यापारी से पूरा भुगतान तत्काल दिलाने के लिए निर्देशित किया। दरअसल ग्राम ट्रेडोंत के किसान हिम्मत सिंह द्वारा मंडी में फसल बेचने के बाद व्यापारी को द्वारा फसल का पूरा भुगतान नहीं दिए जाने की शिकायत की गई  थी।  साथ ही ग्राम मंगरोल में पीएचई विभाग के कार्यपालन यंत्री राजीव श्रीवास्तव को विधायक घनश्याम सिंह ने अम्बेडकर पार्क गुमानपुरा में नबीन हैंडपंप लगवाने के निर्देश दिए। इसके अलावा सेंवढ़ा क्षेत्र के एक दर्जन गांवों में हैंडपंप लगाने के लिए पत्र सौंपा।

ये भी पढ़े- MP Weather Alert : प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में मौसम सूखा रहने के आसार, तापमान में होगी बढ़ोत्तरी

इसके बाद ग्राम राजपुर में ओला वृष्टि से गेहूं, सरसों एवं बटरा की फसल में हुए नुकसान को खेतों में पहुंच कर नुकसान का जायजा लिया। विधायक घनश्याम सिंह ने खेतों में हुए नुकसान को बटरा में 80 प्रतिशत, सरसों में 60 व गेहूं में 30 प्रतिशत बताया हैं।
ओला वृष्टि से पीड़ित किसानों में शामिल कृषक कमल सिंह पुत्र पातीराम ने बताया कि ओला वृष्टि से खेतों में हुए नुकसान का सर्वे करने अब तक कोई राजस्व विभाग (Revenue Department) का अधिकारी, कर्मचारी नहीं आया।
कल्लू नेताजी मंगरोल, राजेन्द्र नोनेरिया, केपी यादव, नोमी सिंह, पीतम सिंह, हरकन्थ सिंह, हाकिम सिंह, गंगा सिंह, कोमल सिंह आदि शामिल रहे।