भिण्ड। गणेश भारद्वाज| सिंध नदी (Sindh Rever) में अवैध तरीके से हो रेत के उत्खनन (Illegal Sand Mining) को लेकर भिंड विधानसभा क्षेत्र के पूर्व प्रत्याशी डॉ रमेश दुबे (Dr. Ramesh Dubey) ने आज सर्किट हाउस पर एक प्रतिनिधिमंडल के साथ चंबल संभाग आयुक्त आरके मिश्रा से मुलाकात की| इस दौरान उन्होंने सिंध नदी बचाने का आग्रह करते हुए पावर मेक कंपनी और रेत माफिया, खनिज अधिकारी की मिलीभगत से अवैध रेत खनन किए जाने और खनन में मशीनों का उपयोग करके नदी का पर्यावरण खराब होने के संबंध में विस्तार से जानकारी दी| डॉक्टर दुबे ने आयुक्त श्री मिश्रा से अनियमित और अवैध तरीके से हो रहे रेत खनन को तत्काल रोक कर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की|

डॉ रमेश दुबे ने आयुक्त आर के मिश्रा से आग्रह किया कि खनिज विभाग घोषित खदानों के क्षेत्रफल पर पक्की मुंडी गढ़वा कर उनका सीमांकन करें जिससे नदी के किनारे के अन्य स्थानों और खेतों से जो रेत निकाला जा रहा है उस पर रोक लग सके| डॉक्टर दुबे ने मांग करते हुए कहा कि पावर मेक कंपनी द्वारा रेत के डंप स्टॉक का माप लेकर रॉयल्टी उसी हिसाब से उन्हें इशू की जावे जिससे डर्मप्रीत की मात्रा और सरकारी रॉयल्टी वसूली की स्थिति स्पष्ट हो सकेगी| इसके अलावा डॉक्टर दुबे ने नदी के अंदर पनडुब्बी लिफ्ट मशीनों द्वारा पोकलेन मशीनों द्वारा लगातार रेत निकालने पर आपत्ति प्रकट करते हुए कहा कि इससे सिंध नदी के जलीय जीव जंतु को खतरा है, नदी की धारा टूट गई है, पर्यावरण पूरी तरह से तहस-नहस हो रहा है|

दुबे ने कहा कि रेत माफिया जबरन नदी किनारों को और उससे लगे खेतों से मशीनों द्वारा रेत खींच रहा है| साथ ही नदी का रेत उठाने के लिए जगह किनारे से लेकर नदी के बीच तक घाट तैयार करके पुल बनाने का काम भी पावर में कंपनी के संरक्षण में हो रहा है डॉक्टर दुबे ने इस संबंध में भी आयुक्त श्री आरके मिश्रा को जानकारी देकर अवैध पुलों को दोबारा स्थापित ना हो ऐसी कार्यवाही करने की मांग की रमेश दुबे के साथ प्रतिनिधिमंडल में से प्रताप सिंह डिंपी भारद्वाज विक्रम सिंह योगेंद्र सिंह कुशवाह सहित अन्य साथी शामिल थे|