-Congress-leader-raised-questions---How-did--landless

भिण्ड| जय किसान ऋण माफी योजना में गड़बड़ी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो व दोषियों के विरुद्ध तत्काल एफआईआर दर्ज कराई जाए उक्त मांग आज पूर्व जिला कांग्रेस अध्यक्ष रमेश दुबे ने करीब 1 सैकड़ा किसानों के साथ जाकर कलेक्टर छोटे सिंह से की|  रमेश दुबे ने किसानों की समस्याओं पर प्रकाश डालते हुए जिला कलेक्टर से कहा कि जिन किसानों पर एक विश्वा भी जमीन नहीं है जिनकी कई वर्ष पूर्व मृत्यु हो चुकी है तथा जो लोग उस गांव में निवासी नहीं करते व एक ही व्यक्ति पर 5 बार ऋण निकालने की कार्रवाई गिजुर्रा सोसायटी के द्वारा की गई है | ऐसे लोगों को तुरंत न्याय दिलाया जाए |

रमेश दुबे ने कहा कि उन लोगों के नाम ऋण कैसे निकाला गया व उनके नाम ऋण माफी योजना में कैसे आए, यह एक जांच का विषय है | दुबे ने कहा कि जांच में दोषी पाए जाने वाले अधिकारी कर्मचारियों के खिलाफ अभी तक एफ आई आर दर्ज क्यों नहीं की गई यह भी एक चिंता का विषय है | रमेश दुबे ने कहा कि प्रदेश की सरकार ने किसानों का दर्द कम करने के लिए जय किसान ऋण माफी योजना जैसी महत्वपूर्ण थी योजना बनाई थी इसका सही क्रियान्वयन करने की पूरी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की है | 

रमेश दुबे ने कहा कि पुलिस  द्वारा मांगे गए 10 बिंदुओं की जांच प्रतिवेदन को जिला प्रशासन द्वारा अभी तक क्यों नहीं सौंपा गया एक जांच का विषय है किसानों के साथ हुए भ्रष्टाचार को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा एवं दोषियों को माफ नहीं किया जाएगा | कलेक्टर से चर्चा करते हुए रमेश दुबे ने दस्तावेज दिखाते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की मंशा है और सहकारिता मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह ने लिखित में कलेक्टर को निर्देशित किया है कि दस्तावेजों की जांच कर तुरंत कार्रवाई की जाए लेकिन यह भी एक महज औपचारिकता रही दोषियों के खिलाफ आज तक कोई कार्यवाही नहीं की गई जो कि शंका पैदा करती है जिला कलेक्टर के द्वारा पुलिस अधीक्षक को लिखे गए प्रतिवेदन में सीधे एफ आई आर दर्ज करने का आदेश दिया किंतु किसी भी प्रकार के  कूट रचित दस्तावेज जांच कमेटी  द्वारा पुलिस को नहीं सौंपा गया जिस वजह से दोषियों पर एफआईआर नहीं हो पा रही है रमेश दुबे ने कलेक्टर छोटे सिंह से कहा कि अनियमितताओं के संबंध में 6 सदस्य कमेटी गठित की गई थी लेकिन आज तक उस कमेटी ने ऐसे प्रमाणिक दस्तावेज पुलिस को उपलब्ध क्यों नहीं कराए यह भी एक जांच का विषय है दुबे ने मांग की कि तुरंत एफ आई आर दर्ज कराने के लिए पुलिस विभाग को संबंधित दस्तावेज उपलब्ध कराई जाए एवं संबंधित सोसायटी को तुरंत सील किया जाए जिला कलेक्टर ने एसडीएम मेहगाओं को दोषी सहकारी संस्थाओं को सील करने के निर्देश दिए और सहकारिता अधिकारियों से दोषियों पर कार्रवाई करने के बारे में विस्तृत जानकारी ली दुबे ने कहा कि 2 दिन के अंदर सारे साक्षात कमेटी द्वारा पुलिस को सौंपी जाए ताकि दंडात्मक कार्रवाई हो सके जय किसान ऋणमाफी योजना में गड़बड़ी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएदोषियों के विरुद्ध तत्काल fir दर्ज कराई जाए ।

श्री दुबे ने आगे कलेक्टर से कहा कि अगर प्रशासन ने कोई लापरवाही बरती तो यह मामला मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव श्री ज्योतिराज सिंधिया के संज्ञान में लाया जाएगा। इस अवसर पर एड. रामदास सोनी, राजीव दीक्षित राधा मोहन चौबे, राहुल भारद्वाज, उदयवीर सिंह, अजीत सिंह सहित जालमपुरा, रेका, गिजोर्रा, जोधापुरा, जीसकपुरा, अतरसुमा गांव के तकरीबन एक सैकड़ा किसान श्री दुबे के साथ मौजूद रहे