MP Poster War : PhonePe मामले में कांग्रेस की धमकी पर नरोत्तम का पलटवार, बोले- “कांग्रेस के लिए नहीं बना है ये”

Narottam Mishra retaliates in PhonePe case :  भाजपा और कांग्रेस के बीच पोस्टर वार में फोन पे की एंट्री ने सियासत को और गरमा दिया हैं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ जो पोस्टर लगाये गए उसपर ऑनलाइन ट्रांजिक्शन करने वाली फोन पे का नाम भी छाप दिया, पोस्टर लगाने का आरोप कांग्रेस पर लगा, फोन पे ने जब आपत्ति जताई तो यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बी वी श्रीनिवास ने लाखों लोगों द्वारा फोन पे अन स्टाल करने की चेतावनी दे दी, इसपर अब मप्र प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।

मध्य प्रदेश में चल रहा पोस्टर वार 

मप्र की सड़कों और चौराहों पर पिछले दिनों कमल नाथ के खिलाफ “करप्शन नाथ” लिखे हुए पोस्टर सामने आये और शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ “50 प्रतिशत कमीशन लाओ और काम कराओ” वाले पोस्टर सामने आये, शिवराज के खिलाफ लगे पोस्टर में ऑनलाइन ट्रांजिक्शन वाली कंपनी PhonePe का नाम भी छापा गया।

कांग्रेस ने अपने ट्विटर पर भी शेयर की पोस्ट 

पोस्टर सामने आने के बाद दोनों दलों के नेता एक दूसरे पर पोस्टर लगाने के आरोप लगाने लगे, कांग्रेस ने और कांग्रेस के छात्र संगठन NSUI ने मध्य अपने ट्विटर एकाउंट पर मध्य प्रदेश में पोस्टर लगाते हुए फोटो शहरों के नाम सहित पोस्ट किये, जिसके बाद सियासत और गरमा गई, गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि यदि इस मामले में फ़ोन पे शिकायत करेगी तो हम कार्रवाई करेंगे ।

फोनपे ने जताई आपत्ति, यूथ कांग्रेस अध्यक्ष ने दी धमकी  

फोन पे ने अपना नाम राजनीति में घसीटे जाने पर आपत्ति जताई और उसने अपने ट्विटर एकाउंट पर इसे पोस्ट किया, जिसके बाद  कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने फोनपे को ही धमकी दे दी कि उन्होंने ट्वीट किया – नवम्बर 2023 में शिवराज सरकार, मई 2024 में मोदी सरकार तो Uninstall होने ही वाली है, क्या होगा अगर फोनपे उसके पहले ही लाखों-करोड़ों फोन  से uninstall हो जाये?

कांग्रेस ने फोनपे से किये कई सवाल 

इस सबके बीच एमपी कांग्रेस ने  फोनपे की चेतावनी को टैग करते हुए कल फिर एक पोस्ट किया जिसमें उसने लिखा –  प्रिय फ़ोन पे टीम, आप किस पोस्टर या बैनर की बात कर रहे हैं, कृपया उल्लेखित/स्पष्ट करें, सार्वजनिक करें।  क्या फ़ोन पे अपने अधीन ट्रांसफ़र होने वाले पैसों के उपयोग के लिये भी उत्तरदायी है? क्या आप फ़ोन पे के उपयोग/दुरूपयोग के मामले को भविष्य में मॉनिटर करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि आपके ऐप के माध्यम से ट्रांसफ़र किया गया पैसा कभी भी रिश्वत या भ्रष्टाचार के लिये उपयोग नहीं किया जायेगा? क्या आप प्रमाणित करेंगे कि मध्यप्रदेश में भ्रष्टाचार नहीं है, और यदि है तो उसकी दर क्या है? आपके ऐप के माध्यम से मध्यप्रदेश में रिश्वत नहीं ली जाती है?  क्या आपके किसी पदाधिकारी ने बीजेपी के किसी नेता/सरकार से पिछले 7 दिनों में कोई संवाद नहीं किया है? कृपया स्पष्टता और पारदर्शिता के साथ आयें अन्यथा आपके इस ट्वीट को राजनीति से प्रेरित और एक दल विशेष को लाभ पहुँचाने के उद्देश्य में गिना जायेगा और आपके विरूद्ध वैधानिक कार्रवाई की जायेगी।

गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर किया पलटवार  

आज मीडिया ने जब गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा से इस पर सवाल किया तो उन्होंने पलटवार करते हुए कहा कि ये तो चोरी और सीनाजोरी वाली बात हो गई, उन्होंने कहा कि फोन पे वैसे भी कांग्रेस के लिए बना भी नहीं हैं जो एक नंबर का ट्रांजिक्शन होता है उसके लिए बना है, ब्लैक मनी वालों के लिए नहीं बना।

नरोत्तम ने श्रीनिवास बीवी को संबोधित करते हुए कहा कि ये आप जैसे लोगों को समझ नहीं आएगा पहले तो आपने लोगो यूज कर लिया अब आप धमका रहे हो , UPI की ये व्यवस्थाएं ऐसे कृत्य के लिए नहीं हैं, जिस पर माफ़ी मांगना चाहिए उसपर धमका रहे हैं।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News