फीस न भरने के कारण बच्चे को स्कूल से किया बाहर, फीस के जुगाड़ में लोन लेने बैंक पहुंचे परिजन

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। बेरोजगारी के माहौल के बीच दिनों दिन बढ़ती महंगाई ने आम आदमी का जीवन मुश्किल में डाल दिया है। दो वक्त की रोटी के लिए संघर्ष कर रहे गरीब आदमी पर चौतरफा मार पड़ रही है। राजधानी के करोंद इलाके के दलित परिवार के छात्र को स्कूल से निकाल दिया गया। इस छात्र के पिता उसकी फीस जमा नहीं कर पा रहे थे। अपने बेटे की फीस जमा करने लोन लेने के लिए पिता सुनील उरे मध्य प्रदेश कांग्रेस के सचिव मनोज शुक्ला के साथ करोंद स्थित कॉ-आपरेटिव बैंक पहुंचा। उसने आवेदन दिया कि उसे अपने बेटे की फीस जमा करने के लिए लोन की जरूरत है।
सुनील उरे ने बताया कि उनका बेटा लांबाखेड़ा स्थित रेड रोज स्कूल में कक्षा दसवीं का छात्र है। उन्होंने बताया कि वे मजदूरी करते हैं और महंगाई के कारण वे अपने बच्चे की फीस जमा नहीं कर पा रहे हैं क्योंकि जो कमाते है, उससे दो वक्त की रोटी खाना भी मुश्किल हो रहा है। अपने बच्चे की पढ़ाई के लिए मैंने बैंक से एक लाख रुपए का लोन मांगा है।

23 अगस्त को ज्वेलर्स की देशव्यापी हड़ताल, 350 एसोसिएशन और फेडरेशन होंगे शामिल

मध्य प्रदेश कांग्रेस के सचिव मनोज शुक्ला ने इस मौके पर कहा कि मोदी और शिवराज सरकार गरीबों की भलाई के रोजाना दावे करती हैं लेकिन हालात इसके उलट हैं। महंगाई ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है लेकिन दोनों सरकारें महंगाई कम करने की बजाए लोगों को भाषण सुना रहीं हैं। इस अवसर पर आतिफ अली, आनंद विश्वकर्मा, संजीव तिवारी, शेख उमर, अनीस सलमानी, नेपाल ठाकुर, गजनफर अली बबला, मो. सईद, ऋषभ शुक्ला, द्वारका यादव, राहुल सेन, दीपक असाठिया, सुनील उरे, हितेश चौहान, सागर कर्ण आदि मौजूद थे।