वैक्सीन नहीं तो देवास नगर निगम में प्रवेश नहीं.. कमिश्नर ने जारी किया आदेश..

देवास, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन की दूसरी डोज़ लगवाने में लोगों में लापरवाही देखी जा रही है और यही वजह है कि लोगों को सेकंड डोज के लिए जागरूक करने प्रशासन को सख्ती करनी पड़ रही है और अब कोरोना महामारी और तीसरी लहर से बचाव के लिए देवास में प्रशासन अब और सख़्त हो गया है।

इन कर्मचारियों की सैलरी में हुई 20% की वृद्धि, Arrears का होगा एकमुश्त भुगतान, वेतन में आएगा उछाल

जी हाँ, देवास नगर निगम कमिश्नर विशाल सिंह चौहान ने एक आदेश जारी किया है कि जिस किसी भी अधिकारी-कर्मचारियों ने वैक्सीन का दूसरा डोज़ नहीं लगवाया है वह निगम में प्रवेश नहीं कर सकता है। इतना ही नहीं वैक्सीन नहीं लगवाने वाले आमजन को भी अब निगम के मुख्य द्वार से उल्टे पैर वापस लौटना पड़ रहा है। क्योंकि यहां पर वैक्सीन लगवाई है या नहीं इसकी जानकारी हासिल की जा रही है। आमजन को सर्टिफिकेट दिखाने या मोबाईल पर चेक करने के बाद ही निगम में प्रवेश दिया जा रहा है। और जिस किसी ने वैक्सीन नहीं लगवाई है उसे निगम के दरवाजे से उल्टे पैर वापस लौटना पड़ रहा है। इसके लिए बाकायदा निगम के मुख्य द्वार पर नोटिस चस्पा कर दिया गया है। जैसे-जैसे समय बीत रहा है लोग कोरोना महामारी को लेकर अब लापरवाही बरत रहे हैं, वैक्सीन को लेकर उदासीनता बरती जा रही है। कई लोगों ने अपना पहला या फिर दूसरा डोज़ तक नहीं लगवाया है। शासन, प्रशासन की तमाम मुहिम और महाअभियान के बाद अब प्रशासन ने लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए यह सख़्ती बरतना शुरू कर दी है। वहीं लोग भी अब प्रशासन की इस मुहिम को खूब सराह रहे है और जो लोग वैक्सीन नहीं लगवा रहे उनसे अपील कर रहे है कि वैक्सीन जरूर लगवाए। क्योंकि आने वाले समय में हर क्षेत्र में वैक्सीन अनिवार्य हो सकता है।

कांग्रेस विधायक ने सत्ता पक्ष पर उठाए सवाल, कंगना और सलमान खुर्शीद को लेकर कही ये बात

मीडिया से बातचीत में निगम आयुक्त विशाल सिंह चौहान ने कहा कि शहर में 60 हजार से ज्यादा लोग ऐसे है जिन्होंने अपना सेकंड डोज़ नहीं लगवाया है। अब हम थोड़ा सख़्त हो रहे है। हमारी टीम शहर की दुकानों, व्यापारिक प्रतिष्ठानों, होटल, हॉस्पिटल्स और औधोगिक क्षेत्र में श्रमिकों को चेक कर रही है। जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाई है उन्हें हिदायत दी जा रही है कि वह अपने दोनों डोज़ लगवा ले। आगे हम प्रतिष्ठान बंद भी कराएंगे। साथ ही नगर निगम में जिन अधिकारी-कर्मचारियों ने दोनों डोज़ लगवा लिए है उन्हें ही प्रवेश दिया जा रहा है।

”आम लोगों को भी वैक्सीन नहीं तो प्रवेश नहीं”
इसके पीछे मकसद यह है कि लोग अपनी सेहत के प्रति जागरूक बने और अपने दोनों डोज़ समय पर लगवाए। देवास प्रदेश का पहला ऐसा शहर बना था जहां नगर निगम / शहरी क्षेत्र में सबसे पहले सौ प्रतिशत वैक्सीन का फर्स्ट डोज लगा था। उस दौरान देवास में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़कर शहरवासियों को बधाई दी थी।