ठेंगे पर सरकारी आदेश, सांसद ने तोड़ा कोविड-19 प्रोटोकॉल

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। सरकारी आदेश (Government Order) का पालन करना हर नागरिक की जिम्मेदारी होती है लेकिन ग्वालियर के सांसद शायद खुद को इससे ऊपर मानते हैं, तभी तो उन्होंने आज मंगलवार को ना सिर्फ सरकारी आदेश (Government Order) की परवाह नहीं की बल्कि कोरोना प्रोटोकॉल (Corona Protocol )को भी तोड़ा।  इसमें उनका साथ दिया भाजपा जिला अध्यक्ष, नगर निगम के अधिकारियों एवं शहर के अन्य लोगों ने।

पूरे प्रदेश की तरह ही ग्वालियर में भी कोरोना (Corona) पुराने रिकॉर्ड तोड़ रहा है, सोमवार को अब तक का एक दिन का सबसे बड़ा सरकारी आंकड़ा 576 सामने आया। संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कलेक्टर और जिला दंडाधिकारी ने धार्मिक स्थलों पर प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया है। सरकारी आदेश (Government Order) में कहा गया है कि संक्रमण को देखते हुए लोग भीड़ इकट्ठी नहीं करें और अपने घर में रहकर ही त्यौहार मनाएं लेकिन ग्वालियर में इस सरकारी आदेश का उल्लंघन सांसद (MP) ने ही कर दिया।

ठेंगे पर सरकारी आदेश, सांसद ने तोड़ा कोविड-19 प्रोटोकॉल ठेंगे पर सरकारी आदेश, सांसद ने तोड़ा कोविड-19 प्रोटोकॉल ठेंगे पर सरकारी आदेश, सांसद ने तोड़ा कोविड-19 प्रोटोकॉल ठेंगे पर सरकारी आदेश, सांसद ने तोड़ा कोविड-19 प्रोटोकॉल

हर साल की तरह इस बार भी नगर निगम ने संस्कार भारती के साथ मिलकर महापौर कार्यालय जल विहार पर नव संवत्सर के स्वागत के लिए सरकारी आयोजन किया। लेकिन इस बार कार्यक्रम में वो भव्यता नहीं थी जो हर साल होती है।  कोरोना का साया कार्यक्रम की भव्यता पर दिखाई दिया हालाँकि सभी अतिथि मास्क लगाए थे लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग के नियम की किसी ने परवाह नहीं की।

ये भी पढ़ें – इंदौर: आंकड़ों ने बढ़ाई चिंता, टूटे सारे रिकॉर्ड, 1552 नए मरीजों की पुष्टि, आज से कोविड सेंटर शुरू

सबसे ख़ास बात तो ये रही कि इस आयोजन ने कलेक्टर और जिला दंडाधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह के उस सरकारी आदेश को ठेंगा दिखा दिया जिसमें बढ़ते संक्रमण को देखते हुए त्यौहार पर भीड़ जुटाने के लिए मना किया है और त्यौहार घर पर ही मनाने के निर्देश दिए गए हैं। बड़ी बात ये है कि इस सरकारी कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ग्वालियर के भाजपा सांसद एवं पूर्व विवेक नारायण शेजवलकर थे, उनके साथ भाजपा जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी, नगर निगम के जनसम्पर्क अधिकारी मधु सोलापुरकर सहित अन्य कई लोग जलविहार पहुंचे और सरकारी आदेश को ठेंगा दिखाते हुए भीड़ इकट्ठी की। यानि सत्ता में बैठे लोगों ने एक दिन पहले यानि सोमवार को ही आये कलेक्टर के सरकारी आदेश को ही नजरअंदाज कर दिया।

ये भी पढ़ें – किस आईएएस को लिखा सूचना आयुक्त ने हकीम लुकमान का भाई!

गौरतलब कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी ग्वालियर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह के कार्यालय से एक आदेश 12 अप्रैल 2021  शाम अपर जिला दंडाधिकारी ने जारी किया जिसमें स्पष्ट शब्दों में लिखा कि 13 अप्रैल को गुड़ी पड़वा , चैती चाँद, 21 अप्रैल को राम नवमी, 13 से 21 अप्रैल तक नव दुर्गा महोत्सव, 14 अप्रैल से रमजान का पवित्र महीना शुरू हो रहा  है और 14 अप्रैल को अंबेडकर जयंती है।  शासन से प्राप्त दिशा निर्देशों के अनुसार कोविड संक्रमण को देखते हुए इन सभी त्यौहारों के दौरान भीड़ इकट्ठी करना प्रतिबंधित किया गया है साथ ही ये सभी त्यौहार घर पर ही मनाने के निर्देश दिए गए हैं।  खास बात ये भी है यदि कोई भीड़ इकट्ठी करता है तो उसके खिलाफ कार्यपालिक मजिस्ट्रेटों को कार्रवाई के लिए तैनात किया गया है बावजूद इसके मंगलवार को भाजपा सांसद विवेक नारायण शेजवलकर की मौजूदगी में नव संवत्सर के कार्यक्रम का सार्वजनिक आयोजन हुआ जिसने कोरोना प्रोटोकॉल और सरकारी आदेश दोनों की धज्जियाँ उड़ा दी।

ठेंगे पर सरकारी आदेश, सांसद ने तोड़ा कोविड-19 प्रोटोकॉल