दो मंत्रियों की रणनीति से जिला पंचायत में BJP का अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पद पर कब्ज़ा, कांग्रेस चित्त 

ग्वालियर जिले की चारों जनपदों में भाजपा के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनने के बाद से ही जहाँ भाजपा उत्साहित थी वहीँ कांग्रेस हताश और निराश थी, उसने थोड़ी बहुत कोशिश की लेकिन उसमें वो सफल नहीं हो सकी। 

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर जिला पंचायत (Gwalior Zila Panchayat) के चुनाव में भाजपा (BJP) ने कांग्रेस (Congress) को पटखनी दे दी है। जिला पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर भाजपा (Gwalior BJP) ने कब्ज़ा कर लिया है। खास बात ये है कि अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों निर्विरोध निर्वाचित हुई। उनके विरोध में किसी ने दावेदारी पेश नहीं की। जिले की चारों जनपदों में कब्ज़ा कर जोश से भरी भाजपा ने अब जिला पंचायत पर भी कब्ज़ा कर लिया है।

ग्वालियर में शुक्रवार को सिरोल रोड स्थित जिला पंचायत के नवीन सभागार में अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद की निर्वाचन हुआ। जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए निर्धारित समय तक केवल एक उम्मीदवार श्रीमती दुर्गेश कुँबर सिंह जाटव द्वारा नामांकन दाखिल किया गया। नामांकन दाखिल करने के लिए निर्धारित समय पूरा होने के बाद कलेक्टर एवं पीठासीन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने फॉर्म की जांच के बाद श्रीमती दुर्गेश कुँबर सिंह जाटव को जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर निर्वाचित घोषित किया गया। जिले के ग्राम मुगलपुरा निवासी श्रीमती दुर्गेश कुँबर सिंह जाटव जिला पंचायत ग्वालियर के वार्ड क्र.-3 से सदस्य पद पर निर्वाचित हुई हैं।

ये भी पढ़ें – देवास : भाजपा के गढ़ में सेंध, जिला पंचायत में भी कांग्रेस का कब्जा, लीला अटारिया बनी अध्यक्ष

इसी तरह उपाध्यक्ष पद के लिये भी केवल श्रीमती प्रियंका सतेन्द्र सिंह द्वारा ही नामांकन प्रस्तुत किया गया। नामांकन दाखिल करने के लिए निर्धारित समय पूरा होने के बाद कलेक्टर एवं पीठासीन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने नामांकन फॉर्म की जांच के बाद श्रीमती प्रियंका सतेंद्र सिंह घुरैया को जिला पंचायत उपाध्यक्ष पद पर निर्वाचित घोषित कर दिया गया। जिले के ग्राम पारसेन निवासी श्रीमती प्रियंका जिला पंचायत ग्वालियर के वार्ड क्र.-1 से सदस्य पद पर निर्वाचित हुई हैं।

इन दो मंत्रियों की बड़ी भूमिका 

आपको बता दें कि अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर भाजपा के कब्जे के पीछे मप्र सरकार के दो मंत्रियों की बड़ी भूमिका है। गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा (HM Dr Narottam Mishra) और खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह (Bharat Singh Kushwah) ने इसके लिए ऐसी रणनीति बनाई कि कांग्रेस (Gwalior Congress) इसमें उलझकर रह गई। उसी का परिणाम रहा कि जिला पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का निर्वाचन निर्विरोध हो गया और कांग्रेस चारों खाने चित्त हो गई।

ये भी पढ़ें – भाजपा के दो दिग्गजों के बेटे बहू आमने-सामने, बेटे की जीत

ऐसे समझें गणित 

25 जून को हुए मतदान के बाद गणना पर्ची के आधार पर जो परिणाम आये उसके अनुसार भाजपा समर्थित 7 सदस्य, कांग्रेस समर्थित 4 उम्मीदवार, बसपा समर्थित एक उम्मीदवार और एक निर्दलीय उम्मीदवार ने जीत हासिल की। इसके बाद शुरू हुई राजनीतिक फील्डिंग में डॉ नरोत्तम मिश्रा और भारत सिंह कुशवाह जुट गए और भाजपा ने बसपा और निर्दलीय को अपने साथ ले लिया, वहीं एक कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार ने खुद को सिंधिया समर्थक बताते हुए भाजपा को समर्थन दे दिया। इससे भाजपा मजबूत हो गई  परिणाम उसके पक्ष में गया

भाजपा में भी रही अंदरूनी गुटबाजी 

भाजपा में भी जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी के लिए दो गुट काम कर रहे थे। एक गुट था पूर्व मंत्री एवं लघु उद्योग निगम की अध्यक्ष इमरती देवी (Imarti Devi) का दूसरा गुट था राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह का , गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा का समर्थन भारत सिंह को मिलने ये ये मजबूत हो गया और उनेक गुट की समर्थित उम्मीदवार श्रीमती दुर्गेश कुँबर सिंह जाटव जिला अध्यक्ष बन गई।

ये भी पढ़ें – RBI ने दो बैंकों पर लगाया प्रतिबंध, जानिए खाते में जमा पैसों के बारे में फैसला

ऐसे आईं इमरती देवी बैकफुट पर 

मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने कैबिनेट मंत्री नरोत्तम मिश्रा के मजबूत समर्थन के चलते श्रीमती दुर्गेश कुँबर सिंह जाटव  संगठन के सामने ग्वालियर जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए रखा था और इमरती देवी ने मंजू राजू खटीक का नाम रखा था, लेकिन निर्वाचन प्रक्रिया से पहले भाजपा ने श्रीमती दुर्गेश कुँबर सिंह जाटव को अपना आधिकारिक उम्मीदवार घोषित कर दिया जिसके बाद इमरती देवी बैकफुट पर आ गई और मंजू राजू खटीक ने नामांकन ही नहीं भरा।

कांग्रेस दिखी हताश और निराश 

ग्वालियर जिले की चारों जनपदों में भाजपा के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनने के बाद से ही जहाँ भाजपा उत्साहित थी वहीँ कांग्रेस हताश और निराश थी, उसने थोड़ी बहुत कोशिश की लेकिन उसमें वो सफल नहीं हो सकी। 13 में से 10 सदस्यों के बहुमत के साथ भाजपा ने बढ़त ले ली थी।  कहा ये भी जा रहा है कि भाजपा की तरफ से उपाध्यक्ष पद की उम्मीदवार प्रियंका को लेकर कांग्रेस की तरफ से समर्थन का दावा भी किया लेकिन भाजपा की दो मंत्रियों की रणनीति के चलते कांग्रेस यहाँ फेल हो गई।

ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : सोना चमका, चांदी भड़की, बाजार में बड़ी तेजी

मंत्री भारत सिंह ने दी बधाई, गुटबाजी से किया इंकार 

ग्वालियर जिले में जिला और जनपद पंचायत निर्वाचन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद अब स्थिति स्पष्ट है।  अब जिला पंचायत ग्वालियर सहित जिले की चारों जनपद पंचायतों में भाजपा के ही अध्यक्ष और उपाध्यक्ष है। उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह ने जिला पंचायत कार्यालय पहुंचकर नवनिर्वाचित अध्यक्ष श्रीमती दुर्गेश कुँबर सिंह एवं उपाध्यक्ष श्रीमती प्रियंका सतेन्द्र सिंह को बधाई दी। उन्होंने कहा कि जिला पंचायत के सभी सदस्य मिल-जुलकर जिले के ग्रामीण अंचल के विकास को आगे बढ़ाएँ। साथ ही विकास की नई इबारत लिखें। प्रदेश सरकार से ग्रामीण अंचल के विकास के लिये हर संभव सहयोग मिलेगा। उन्होंने पार्टी में किसी भी तरह की गुटबाजी से साफ इंकार कर दिया।