Gwalior News : फिर चला बुलडोजर, निर्माणाधीन अवैध कॉलोनियों को किया ध्वस्त

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। एंटी माफिया अभियान के साथ साथ अवैध अतिक्रमण पर भी बुलडोजर (bulldozer) की कार्रवाई जारी है।  ग्वालियर जिला प्रशासन और नगर निगम ने आज इसी क्रम में अवैध कलिनियों के खिलाफ कार्रवाई की और वहां निर्माणाधीन बाउंड्री वाल, सड़क, बिजली के खम्बे आदि को उखाड़ दिया।

ग्वालियर नगर निगम (gwalior municipal corporation) एवं ग्वालियर जिला प्रशासन (gwalior district administration) ने आज रविवार को ग्रामीण क्षेत्र में विकसित की जा रहीं अवैध कॉलोनियों पर कार्रवाई की । बिना टीएनसीपी एवं नगर निगम की अनुमति के कॉलोनियों में कॉलोनाइजरों द्वारा विकास कार्य किए जा रहे थे, जिन पर कार्रवाई करते हुए नगर निगम के अमले ने कॉलोनियों में किए जा रहे विकास कार्यों को हटवाया तथा पक्के निर्माण पर बुलडोजर चलाकर उसे ध्वस्त कर दिया।

ये भी पढ़ें – Government Job: सॉफ्टवेयर इंजीनियर और असिस्टेंट डाटा एनालिस्ट के पदों पर निकली भर्ती, जाने डीटेल

नगर निगम के कॉलोनी सेल प्रभारी एवं भवन अधिकारी महेंद्र अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत वार्ड क्रमांक 62 एवं 63 में कई कॉलोनाइजर अवैध कॉलोनियां बना रहे थे  उनके यहाँ कार्रवाई कर कॉलोनी की सड़क, विद्युत पोल, सीवर चैंबर, बाउंड्री वॉल,भूखंडों की नींव हटाने की कार्रवाई की गई।

ये भी पढ़ें – भोपाल में निजी अस्पताल में लिफ्ट गिरी, घायलों की हालत चिंताजनक

कार्रवाई के तहत ग्राम सेंथरी में सर्वे क्रमांक 102 से 106, एवं 115 से 117 पर रामचरण पुत्र चिंतामन सिंह गुर्जर द्वारा रामश्री कॉलोनी विकसित की जा रही थी। वहीं सर्वे क्रमांक 148 /1, 147 एवं 149 पर वीरेंद्र सिंह पुत्र सिकंदर सिंह द्वारा कॉलोनी विकसित की जा रही थी। सर्वे क्रमांक 90 से 91 पर नरेंद्र पचौरी, राम स्नेही द्वारा शिव निवारा ग्रींस कॉलोनी विकसित की जा रही थी।

ये भी पढ़ें – PM Kisan : 11वीं क़िस्त पर बड़ी अपडेट, इस दिन खाते में आएंगे 2 हजार रूपए, हुए कई बड़े बदलाव, जाने डिटेल्स

इसके साथ ही ग्राम कुंवरपुर के सर्वे क्रमांक 186 पर अब्दुल हमीद पुत्र नवाब खान द्वारा कॉलोनी विकसित की जा रही थी। सर्वे क्रमांक 41,43 एवं 45 पर रमेश सिंह आदि द्वारा एसके सिटी कॉलोनी विकसित की जा रही थी। इसके अलावा ग्राम चक रायपुर के सर्वे क्रमांक 140 ,141 पर रमेश सिंह, राजेश सिंह एवं कप्तान सिंह द्वारा कॉलोनी का विकास किया जा रहा था। जिन्हें तोड़ दिया गया।