Gwalior News : रिटायर्ड फौजी को हनी ट्रैप में फंसाने वाली महिला साथी सहित गिरफ्तार, 10 लाख रुपये की कर रही थी डिमांड, झूठे मुकदमे भी दर्ज कराते थे

एक बार किसी को हनीट्रेप में फंसाने के बाद मनीषा प्रजापति व चिन्टू जाट दोनों बड़ी सावधानी व चालाकी से अपना फेसबुक, इंस्टाग्राम सोशल मीडिया आदि पर अपना नाम और मोबाइल नंबर बदल लेते है या सोशल मीडिया का अकाउंट को डिलीट कर देतेे है फिर नए नाम से और नई आई.डी. बनाकर अलग-अलग नामों से सीधे साधे लोगों को फंसाते थे।

Atul Saxena
Published on -
Arrest

Gwalior News : ग्वालियर निवासी एक रिटायर्ड फौजी को हनी ट्रैप में फंसाने वाली महिला को उसके साथी के साथ पुलिस ने गिरफ्तार किया है, आरोपी महिला और उसके साथी ने फौजी को अपने जाल में फंसाया, उसकी वीडियो बनाई और फिर उसे ब्लैकमेल कर 10 लाख रुपये की मांग की, पूछताछ में मालूम चला है कि दोनों बहुत शातिर हैं, उनका ये धंधा है वो पहले भी कई लोगों को अपने जाल में फंसा चुके हैं, दोनों आरोपी थानों में झूठे मुकदमे दर्ज कर भी ब्लैकमेल करते हैं और फिर पैसा मिल जाने पर राजीनामा कर लेते हैं

आपको बता दें कि पिछले दिनों 22 जून 2024 को मुरार थाने में रिटायर्ड फौजी नन्द किशोर लोधी ने एक शिकायती आवेदन दिया था जिसमें उन्होंने बताया कि वे भारतीय सेना से रिटायर्ड होने के बाद ट्रेवल्स एजेंसी चलाते हैं, उन्हें एक महिला मनीषा प्रजापति और उसके साथी चिंटू उर्फ़ रघुवीर जाट ने जालसाजी, धोखाधड़ी, षड़यंत्र रचकर हनीट्रेप में फंसाया है और ब्लैकमेलिंग कर उनसे 10 लाख रुपए हड़पने की नियत से फर्जी बलात्कार एवं छेड़खानी के झूठे केस दर्ज करवानें की लगातार धमकी दी जा रही है।

एक ढाबे से पुलिस ने दोनों को किया गिरफ्तार 

शिकायती आवेदन मिलने के बाद पुलिस एक्टिव हुई, पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू की,  इसी दौरान पुलिस को आज मालूम चला कि आरोपी महिला मनीषा प्रजापति एवं उसका साथी चिन्टू चार भाई ढाबा के पास एनएच-44 हाइवे पर हैं, पुलिस ने तत्काल उनकी घेराबंदी कर दोनों को पकड़ लिया। पूछताछ दोनों ने रिटायर्ड फौजी  को हनी ट्रैप में फंसाने की धमकी देना स्वीकार किया। पूछताछ में ज्ञात हुआ है कि आरोपिया मनीषा प्रजापति ने लोकेन्द्र गुप्ता पुत्र बाबूलाल गुप्ता निवासी भितरवार रोड जगदम्बा कलोनी डबरा से दिनांक 08 जून 2022 को झूठी शादी की थी उसके बाद उसका सामान रुपए लेकर भाग गयी थी एवं मनीषा का फमिली कोर्ट में किसी व्यक्ति से तलाक का केस भी चल रहा है।

रिटायर्ड फौजी के साथ ऐसे रचा षड्यंत्र 

दरअसल 29 मई को मनीषा प्रजापति द्वारा फरियादी नन्दकिशोर लोधी को कॉल करके पहले मथुरा वृन्दावन जाने के लिए किराये की जानकारी ली उसके बाद उनके व्हाट्सएप पर गुड मोर्निंग व गुड नाईट का मेसेज करने लगी। 03 जून को मनीषा ने रिटायर्ड फौजी को मैसेज करके उसे बॉयफ्रेंड बनने के लिये बोला,  जब फरियादी ने बोला कि आप मुझे कैसे जानती हो तो मनीषा ने बोला कि मैंने इंस्टाग्राम पर आपको फोलो किया हुआ हैं आप फौजी हो और मैंने आपकी सभी फोटो सोशल मीडिया पर देखी है। उसके बाद उसने नन्द किशोर लोधी को मिलने के लिये बुलाया और कहा कि मुझे ग्वालियर घुमा दो इसका जो भी चार्ज होगा वो आपको दूंगी।

12 जून को रिटायर्ड फौजी मनीषा को लेने बारादारी चौराहा गया। उसके बाद महिला ने उसे स्विमिंग पुल तिघरा रोड और डी.बी मॉल बस स्टेशन पर जाने के लिए घुमाने के बाद गाडी का चार्ज 2000 /- रुपए माँगा तो उसने बोला कि मैं अपने घर से लेकर बाद में दे दूंगी।  14 जून को मनीषा ने लोधी को फोन किया कि उसे तरन पुष्कर सिटी सेण्टर जाना है और मैं आपका सारा पैसा इकठठा दे दूंगी। उसके बाद लोधी मनीषा को तरन पुष्कर लेकर गया लेकिन वह बंद था तो वो उसे पड़ाव स्थित फूड कोर्ट लेकर गई। उसके बाद लोधी, मनीषा को वापस बारादरी छोड़़कर चला गया।  उसके बाद से मनीषा के साथी चिंटू द्वारा हनीट्रेप, जालसाजी, धोखाधड़ी, षड़यंत्र रचकर ब्लैकमेलिंग कर उससे 10 लाख रुपए हड़पने की नियत से फर्जी बलात्कार एवं छेड़खानी के झूठे केस दर्ज करवानें की लगातार धमकी दी जाने लगी।

ऐसे फंसाते थे अपने जाल में 

पुलिस के मुताबिक उक्त दोनों आरोपी द्वारा ग्वालियर शहर के विभिन्न सीधे साधे लोगों को सोशल मीडिया व अन्य अवैध माध्यमों से दोस्ती कर अपनें प्रेम जाल में फंसाकर उनसें झूठे प्यार का नाटक कर होटल आदि जगह बुलाकर बलात्कार एवं छेड़खानी के झूठे मुकदमें दर्ज करवाएं जाते हैं। इसका दलाल चिन्टू सिर्फ पैसे वसूलने के लिए मनीषा प्रजापति से झूठे केस लगवाता है। फिर उनसें लाखों रुपए ऐंठकर हनीट्रेप करते हैं जिन व्यक्तियों के द्वारा रुपए दे दिए जाते हैं उनसे मनीषा व दलाल चिन्टू राजीनामा कर लेते है। ये लोग फरवरी 2018, फरवरी 2020, मार्च 2020 में थाना मोहना, अक्टूबर 2022 में थाना बिलौआ में जनवरी 2023 में थाना मुरार में कई  निर्दाेष व्यक्तियों के खिलाफ झूठे मुकदमें दर्ज करवा चुके है।

एक बार किसी को हनीट्रेप में फंसाने के बाद मनीषा प्रजापति व चिन्टू जाट दोनों बड़ी सावधानी व चालाकी से अपना फेसबुक, इंस्टाग्राम सोशल मीडिया आदि पर अपना नाम और मोबाइल नंबर बदल लेते है या सोशल मीडिया का अकाउंट को डिलीट कर देतेे है फिर नए नाम से और नई आई.डी. बनाकर अलग-अलग नामों से सीधे साधे लोगों को फंसाते थे। ब्लैकमेलिंग, लूटपाट एवं ठगी के साथ-साथ मनीषा सीधे साधे लोगों से झूठी शादी भी करती हैं और उनके गहने, कीमती आभूषण, पैसें लेकर फरार हो जाती है। मनीषा के साथ दलाल चिन्टू जाट द्वारा हर गलत काम में बराबर का सहयोग किया जाता है।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News