IPL 2022 : कार में खिला रहे थे ऑनलाइन सट्टा, दो सटोरिये 01 लाख कैश के साथ गिरफ्तार

पुलिस ने बताया कि दिल्ली में बैठे हुए एक व्यक्ति द्वारा इन दोनों को आईडी उपलब्ध कराई जाती थी जिसे भी आरोपी बनाया गया है।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। IPL 2022 के मैचों पर सट्टा (IPL 2022 betting) खिलाने वालों के खिलाफ लगातार हो रही कार्यवाहियों के बाद भी ग्वालियर में सटोरिये पुलिस (Gwalior Police) से भय नहीं खा रहे।  ग्वालियर की क्राइम ब्रांच पुलिस (Gwalior Crime Branch Police) ने थाने के फ़ोर्स के साथ मिलकर एक बार फिर दो सटोरियों को ऑनलाइन सट्टा खिलाते पकड़ा है।  इनके पास से एक कार, मोबाइल और एक लाख रुपये कैश जब्त हुआ है।

दरअसल ग्वालियर एसएसपी अमित सांघी को मुखबिर ने सूचना दी कि कुछ लोग मुरार थाना क्षेत्र में हुरावली रोड पर आर्मी गेट के पास कार में बैठकर IPL 2022 के मैचों पर ऑनलाइन सट्टा (IPL 2022 Online Betting) खिला रहे हैं।  एसएसपी ने सूचना की जानकारी एडिशनल एसपी क्राइम राजेश दंडोतिया को दी।

ये भी पढ़ें – Road Accident: शराब की वजह से हो रहे एक्सीडेंट पर लगाम, ड्रिंक की तो स्टार्ट ही नहीं होगी गाड़ी

एडिशनल एसपी ने सीएसपी मुरार और डीएसपी क्राइम विजय भदौरिया को टीआई क्राइम ब्रांच दामोदर गुप्ता और टीआई मुरार शैलेन्द्र भार्गव के साथ दबिश के निर्देश दिए।  जब क्राइम ब्रांच और मुरार थाने के फ़ोर्स आर्मी गेट के पास पहुंचा तो दो युवक सफ़ेद रंग की हुंडई एक्सेंट कार में IPL 2022 के मैचों पर ऑनलाइन सट्टा लगा रहे थे। पुलिस को देखकर युवकों ने भागने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया।

ये भी पढ़ें – साढ़े तीन लाख बंदियों के लिए PM ने मुख्यमंत्रियों और हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीशों से की ये अपील

पुलिस ने जब दोनों सटोरियों के मोबाइल चैक किये तो उसमें सट्टे वाली वेबसाइट खुली मिली जिसमें  ये लोग लखनऊ सुपर जाइंट एवं किंग्स इलेवन पंजाब के बीच चल रहे मैच पर ऑनलाइन सट्टा खिला रहे थे। पकड़े गये सटोरियों की तलाशी लेने पर उनके पास से तीन मोबाइल और एक लाख कैश मिला।

ये भी पढ़ें – अब प्रत्येक बुधवार और शुक्रवार IRCTC कराएगा Statue of Unity की सैर, यहाँ देखें टूर प्लान

पूछताछ में सटोरियों ने बताया कि सट्टा खेलने वाले ग्राहकों को वेबसाइट के माध्यम से 30 आईडी बनाकर आईपीएल ऑनलाइन सट्टा खिलाया जाता है, उसके ग्वालियर, इन्दौर एवं मुरैना जिले में 200 से अधिक क्लाइंट हैं। पुलिस ने बताया कि दिल्ली में बैठे हुए एक व्यक्ति द्वारा इन दोनों को आईडी उपलब्ध कराई जाती थी जिसे भी आरोपी बनाया गया है। पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।