वीरांगना बलिदान मेला: जयभान सिंह पवैया ने किया तारीखों का ऐलान, ऐसा रहेगा पूरा कार्यक्रम

जयभान सिंह पवैया ने कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया कि 17 जून की सांय 7 बजे बुंदेली युवाओं के द्वारा झांसी दुर्ग से "शहीद ज्योति" आयेगी

जयभान सिंह पवैया

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। मध्य प्रदेश में जारी सियासी हलचल के बीच वरिष्ठ भाजपा नेता (Senior BJP Leader) और पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया ने ग्वालियर में होने वाले 22वें वीरांगना बलिदान मेला के आयोजन का ऐलान कर दिया है।स्वतंत्रता संग्राम की प्रथम वीरांगना झांसी की रानी लक्ष्मीबाई (Rani Laxmibai of Jhansi) की शहादत की 163 वी वर्षगांठ पर यह मेला 17-18 जून को ग्वालियर में आयोजित किया जाएगा।इसके तहत 17 को शहीद ज्योति आयेगी और 51 चौराहों पर शहीदों के नाम एक साथ दीप जलेंगे ।वही 18 की सुबह श्रधांजलि व क़ोरोना वारियर्स नारी सम्मान , विनीत चौहान व शशिकांत यादव का वर्चुअल काव्यपाठ किया जाएगा।

यह भी पढ़े.. MP Weather : समय से पूर्व भोपाल में मानसून की एंट्री, मप्र के इन जिलों में बारिश का अलर्ट

वीरांगना बलिदान मेला के संस्थापक अध्यक्ष व पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया  (Former Minister Jaibhan Singh Pawaiya ने आज कार्यक्रम की घोषणा करते हुए कहा कि संपूर्ण आयोजन कोविड संक्रमण के कारण गाइडलाइन की मर्यादा में सीमित संख्या में होंगे । उन्होंने कहा कि सन 2000 से स्थापित बलिदान मेला की परंपरा का पावन दीप बुझने न पाये इसलिए गरिमामय तो होगा लेकिन महानाट्य या कवि सम्मेलन प्रत्यक्ष किया तो हजारों लोगों का आना मानवता के लिये संकट होगा, जो हमें स्वीकार नहीं। संकटकाल में समाज हित में यह समझौता हमारा युग-धर्म है।

जयभान सिंह पवैया ने कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया कि 17 जून की सांय 7 बजे बुंदेली युवाओं के द्वारा झांसी दुर्ग से “शहीद ज्योति” आयेगी जिसे पड़ाव चौराहे से अगवानी कर समाधि तक समारोह पूर्वक ले जायेंगे तथा 20 नागरिकों की उपस्थिति में 7:30 बजे बलिदान भूमि पर स्थापित किया जायेगा, मातृशक्ति पुष्प वर्षा करेगी। इसी समय ठीक शाम 7:45 से 8:00 के बीच शहर के प्रमुख 51 चौराहों पर एक साथ रानी के चित्र के समक्ष 21 दीप शहीदों, क्रांतिकारियों के नाम जलाये जाएंगे व राष्ट्रगीत गायन होगा। शहर के देशभक्त संगठनों के सीमित प्रतिनिधि एवं नागरिक उपस्थित रहेंगे ।

यह भी पढ़े.. Driving Licence: अब बिना RTO टेस्ट के बनेगा ड्राइविंग लाइसेंस, जानें क्या है नए नियम

18 जून की सुबह 8:00 बजे पुष्पांजलि के पश्चात समाधि के सामने प्रांगण में 8 से 10 बजे तक श्रद्धांजलि पर नगर के 20 गणमान्य बैठेंगे, भजनांजली होगी तथा कोरोना योद्धा के रूप में चयनित मातृशक्ति की 5 प्रतिनिधियों का सम्मान होगा । 18 जून की सांय 8:30 से 9:30 वर्चुअल कवि सम्मेलन में देश के विख्यात ओज कवि विनीत चौहान व शशिकांत यादव काव्य पाठ करेंगे। उन्होंने अपील की कि कार्यक्रमों में सामाजिक दूरी , मास्क व संख्या की दृष्टि से अनुशासन कायम रखा जाये और माता-पिता अपने बच्चों को ग्वालियर में रानी के बलिदान की कथा जरूर सुनायें।