इटारसी से है महात्मा गांधी का पुराना नाता, जिस कक्ष में रुके वहां है संग्रहालय

गांधी जी के साथ साथ प्रधनमंत्री प.जवाहरलाल नेहरू, राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद, काका कालेलकर,सुचेताबेन कृपलानी ,रविशंकर शुक्ल आदि ने किया है विश्राम

होशंगाबाद/इटारसी,राहुल अग्रवाल। 2 अक्टूबर मोहनदास करमचंद गाँधी यानी महात्मा गांधी की जयंती है। आज बापू हमारे बीच नही है पर उनकी कही हुई बाते और संघर्ष आज भी हमे मार्गदर्शित करते है। बापू के संघर्ष की कहानी बहुत लंबी है पर आज का विषेषांक बापू के इटारसी प्रवास पर है। बापू का इटारसी से पुराना नाता रहा है। इटारसी के गोठी धर्मशाला में बापू ने एक दिन रुक कर विश्राम किया था। आज भी वो कक्ष वही है और वैसा ही है जिसे संग्रहालय का रूप दिया जा चुका है। जहां आज बापू के प्रवास के समय की वस्तुएं और उनका लिखा हुआ लेटर सुरक्षित रखा हुआ है ।

MP Breaking News

यह धर्मशाला इटारसी के वरिष्ठ गांधीवादी विचारक समीर मल गोठी के परिवार का है। धर्मशाला का इतिहास 1907 के करीब का है। समीरमल के पौत्र हनी गोठी बताते है कि धर्मशाला बनाने का उद्देश्य इटारसी स्टेशन पर आने जाने वालो को अच्छा आश्रय मिल सके इसलिए बनाया गया था क्योंकि उस जमाने मे होटल लॉज नही हुआ करते थे। खास बात यह थी कि धर्मशाला में जात पात नही मानते थे यही बात बापू को भा गई थी। उन्होंने अपने लेटर में इसका स्पष्ट उल्लेख किया है कि इस धर्मशाला में हम लोगों को आश्रय दिया गया इसके लिए हम सब संचालकों का आभार मानते है। यह जानकर की स्वच्छता से रहने बाले हरिजनों को भी यहां स्थान मिलता है बहुत हर्ष हुआ

 

ये भी पढ़े :- मनाई गई गांधी जी की 151 वीं जयंती, गोठी धर्मशाला पर भी हुआ आयोजन

न सिर्फ बापू बल्कि आजादी की लड़ाई में आपने योगदान देने बाले सेनानी भी यहां आचुके है। देश के पहले प्रधनमंत्री प.जवाहरलाल नेहरू -22 अप्रेल 1935 में नागपुर जाते समय यहां कुछ समय के लिए रुके थे उनके द्वारा लिखा लेटर भी यहां है। साथ ही पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद भी साल 1935 में 14 अगस्त को वर्धा से प्रयाग जाते समय तीन घंटे रुके थे।

काका कालेलकर ने भी साल 1935 में 13 जुलाई में प्रयाग जाते समय 2 घंटे रुके ओर आराम किया था। वहीं सुचेताबेन कृपलानी एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और राजनीतिज्ञ थी ये उत्तर प्रदेश की मुख्य मंत्री बनी और भारत की प्रथम महिला मुख्यमंत्री थी वे प्रसिद्ध गांधीवादी नेता आचार्य कृपलानी की पत्नी थीं। वो साल 1945 में 17 नबंर को दिल्ली जाते समय 2 दिन रुकी थी। रविशंकर शुक्ल 1 घण्टे यहां रुके थे। गोठी धर्मशाला आज भी यात्री के लिये खुली हुई है और जैसी पहले थी वैसी ही अभी भी है।

MP Breaking News MP Breaking NewsMP Breaking NewsMP Breaking NewsMP Breaking News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here