Indore News : एमबीए पेपर लीक मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार

इस पूरे मामले को लेकर विश्वविद्यालय के अधिकारियों द्वारा ग्वालटोली थाने में दर्ज कराया गया था। प्रकरण दर्ज हो जाने के बाद विवेचना करते हुए जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार करने की तैयारी ग्वालटोली थाने द्वारा की गई। अनंत कड़ी मेहनत के बाद प्रकरण में शामिल तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

Indore police

Indore News : देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में अयोजित परीक्षाओं में पिछले महीने की 25 और 28 तारीख को एमबीए पहले सेमेस्टर के दो पेपर लीक होने का मामला सामने आया था। लिखे हुए प्रश्न पत्रों को लेकर छात्र संगठनों द्वारा देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की कार्य प्रणाली पर कई तरह के सवाल खड़े करते हुए आंदोलन भी किया गया था। छात्र संगठनों ने पेपर लीक से संबंधित मामले में ज्ञापन भी देवी अहिल्या विश्वविद्यालय को सौंपते हुए दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की थी। घटना हो जाने के बाद विश्वविद्यालय के जिम्मेदारों द्वारा पुलिस के आला अधिकारियों से मिलकर एक ज्ञापन सोपते हुए मामले में मुकदमा दर्ज करने की मांग की गई थी। तत्पश्चात पूरे घटनाक्रम को लेकर विश्वविद्यालय के अधिकारियों द्वारा ग्वालटोली थाने में दर्ज कराया गया था। प्रकरण दर्ज हो जाने के बाद विवेचना करते हुए जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार करने की तैयारी ग्वालटोली थाने द्वारा की गई। अनंत कड़ी मेहनत के बाद प्रकरण में शामिल तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

क्या है पूरा मामला

देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के अधिकारियों द्वारा 30 तारीख को थाना छोटी ग्वालटोली में मुकदमा दर्ज कराया गया और दर्ज मुकदमे के बाद एसीपी तुषार सिंह के नेतृत्व में थाना प्रभारी उमेश यादव की अध्यक्षता में एक टीम बनाई गई और मिलने वाले इनपुट के बाद जो चीज सामने आई सर्वप्रथम उसे टेक्निकल एक्सपर्ट से पता करते हुए मामले में पुलिस धीरेंद्र नरवरिया नामक छात्रा जो की एमबीए फर्स्ट सेम का छात्र है उस तक पुलिस पहुंची और पूछताछ में उसने बताया कि उसकी थर्ड सेम के छात्र द्वारा प्रश्न पत्र शेयर किया गया है प्रकरण में शामिल नाम बताते हुए झोन 3 के एडिशनल डीसीपी रामसनेही मिश्रा ने थर्ड सेम के छात्र का नाम गौरव सिंह बताया ओर आगे मामले में शामिल तीसरे आरोपी का नाम बताया जो इस पूरे पेपर लीक मामले की मूल कड़ी है वह आइडियल इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट जो की राउ में स्थित है कॉलेज के सिर का कंप्यूटर ऑपरेटर सामने आया है पुलिस अब पकड़े गए तीनों आरोपियों के बाद इस मामले का पता लगाने में छुट्टी है कि पेपर लीक करने के पीछे वास्तविक कारण क्या था।

पेपर लीक मामले को लेकर एडिशनल डीसीपी रामसनेही मिश्रा ने पूरे प्रकरण में आरोपियों की गिरफ्तार हो जाने के बाद हर पहलू की बारीकी से जांच एसीपी तुषार सिंह द्वारा करने की बात कहते हुए प्रकरण में सामने आने वाले के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी क्योंकि मामला छात्रों के भविष्य से जुड़ा हुआ है।

इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है।वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News