Indore News : इंदौर में वैक्सीनेट हुए किशोर, 10 जनवरी तक टीकाकरण पूरा करने का लक्ष्य

शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के टीकाकरण केंद्रों पर पुख्ता तैयारियां की गई

इंदौर,आकाश धौलपुरे। कोरोना के हॉट स्पॉट इंदौर में अब बड़ो के बाद किशोर अवस्था के बच्चों को कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेट किया जा रहा है। देशभर में आज से शुरू हुई इस मुहिम के बीच देश के सबसे स्वच्छ शहर में वैक्सीन को लेकर बच्चे जागरूक दिखाई दिए। दरअसल, बच्चों को असुविधा न हो इसके लिए स्कूलों में ही टीकाकरण केंद्र खोले गए है। इसके लिए इंदौर के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के टीकाकरण केंद्रों पर पुख्ता तैयारियां की गई है। सुबह 9 बजे से शाम को 5 बजे तक चलने वाली वैक्सीनेशन प्रक्रिया के तहत इंदौर में 10 जनवरी तक 2 लाख से अधिक बच्चो के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है।

यह भी पढ़े… Sihore news: मरीजों के लिए तमाम सुविधाएं  मां पीतांबरा नर्सिग कॉलेज और अस्पताल में उपलब्ध

हम आपको बता दें कि देश में कोरोना वैक्सीनेशन में इतिहास रचने वाले इंदौर में सोमवार से केंद्र सरकार के निर्देश पर 15 से 18 साल के बच्चों को वैक्सीन लगाया जा रहा है जिसके लिए इंदौर जिले में 200 से ज्यादा स्कूली केंद्रों पर सुबह 9 बजे से वैक्सीनेशन शुरू किया गया। इंदौर में करीब 2 लाख बच्चे है जिन्हें वैक्सीनेट किया जाना है। सभी स्कूले केंद्रों पर छात्रों के तुरंत रजिस्ट्रेशन किए जा रहे हैं । वही इंदौर में टीकाकरण के पहले कलेक्टर मनीष सिंह ने एक दुविधा को दूर करते हुए आदेश जारी किए जिसके मुताबिक जो बच्चे इस साल कॉलेज पहुंच चुके हैं, वे भी अपने छोड़े गए स्कूल जाकर वैक्सीन लगवा सकते हैं।

यह भी पढ़े… Indore News : बजरंग सेना और हिंदू महासभा के 50 लोगो पर इसलिए हुआ केस दर्ज

इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि बच्चो के लिए करीब 900 केंद्र बनाए गए है और अगले 2 दिनों में सभी 927 केंद्रों पर वैक्सीनेशन टीम बैठ जाएगी और आज 273 केंद्रों पर वैक्सीन लगाई जा रही है। उन्होंने बताया कि वैक्सीन के लिए जिला शिक्षा अधिकारी से लेकर संकुल और स्कूल प्राचार्यो को निर्देश दिए गए है कि वो वैक्सीन व्यवस्था करवाये। वही कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि सोमवार को संयोगितागंज क्षेत्र के एक स्कूल में 500 के करीब बच्चे एक साथ एकत्रित हो गए थे वही वैक्सीनेटर की पर्याप्त संख्या नही थी ऐसे में शिकायत के बावजूद स्कूल शिक्षक द्वारा कदम नही उठाये जाने और लापरवाही के चलते उसे निलंबित किया गया है।

यह भी पढ़े… Lockdown 2022: राज्य में लॉकडाउन लगेगा या नहीं? मंगलवार को सीएम लेंगे फैसला

कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि इंदौर में 15 से 18 वर्ष के बीच की उम्र के रजिस्टर्ड 2 लाख बच्चे है वही 25 प्रतिशत ऐसे बच्चे होंगे जिन्होंने ड्रॉप आउट किया होगा। ऐसे में ड्रॉप आउट ले चुके बच्चो को आंगनबाड़ी केंद्रों पर टीके लगाए जाएंगे वही रजिस्टर्ड संख्या के बच्चो का 10 जनवरी तक टीकाकरण करा लिया जायेगा।

यह भी पढ़े… MPPSC: इन पदों पर निकली है बंपर भर्तियां, 15 जनवरी से आवेदन, जानिए आयु-पात्रता

वहीं इंदौर में बढ़ते कोरोना केस को लेकर कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि पूरा विश्व कोरोना का हॉट स्पॉट बना हुआ है ये कहना गलत है कि इंदौर हॉट स्पॉट बन गया है। देश मे केस बढ़ रहे है और इंदौर में भी केस बढ़ रहे है। उन्होंने कहा कि आंकलन के हिसाब से आने वाले समय मे बहुत तेजी से कोरोना फैलेगा। वही उन्होंने कहा कि अभी तक के जो केस सामने आए है उनमें कोरोना के ओमिक्रोन के साथ ही डेल्टा वेरियंट को भी पाया गया है और इस समय मिश्रित केस सामने आ रहे है। कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि डेल्टा केस में लोगो को ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है क्योंकि डेल्टा केसेस में सांस की तकलीफ ओमिक्रोन की तुलना में ज्यादा होती है। वही उन्होंने साफ किया कि आने वाले समय मे संक्रमण की स्थिति को देखते हुए प्रतिबंध लगाए जाएंगे और लोग बड़ा आयोजन करने से बचे। इधर, इंदौर में बढ़ते पॉजिटिव केसो के चलते प्रशासन ने लोगो से अपील की है कि वो भीडभाड़ वाले इलाकों में जाने से बचे और मास्क जरूर लगाए।