इंदौर-मंदसौर शराब कांड पर बोले लक्ष्मण सिंह, कहा -मप्र में राजस्थान की तर्ज पर बनाई जाए शराब नीति

इंदौर, आकाश धोलपुरे। कुछ दिनों पहले इंदौर (Indore) में सामने आए शराब गोलीकांड और मंदसौर (Mandsaur) में जहरीली शराब कांड के मामले सामने आने के बाद कांग्रेस विधायक और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) के भाई लक्ष्मण सिंह (Lakshman Singh) ने मध्यप्रदेश में नई शराब नीति के पक्ष में इंदौर में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जहरीली शराब से पहली बार कोई दुर्घटना नही घटी है। बहुत पहले भी घटी है और कई सालों से ये चला आ रहा है। उन्होंने इन घटनाओं के पीछे वर्तमान शराब नीति को दोषी बताया और कहा कि इस नीति के चलते मुट्ठीभर लोग ही शराब का व्यापार करेंगे बाकि कोई नही करेगा। उन्होंने कहा कि ये मैं कांग्रेस के समय से कहता आ रहा हूँ इसकी वजह से ही जहरीली शराब बन रही है।

यह भी पढ़ें…रेल से चोरी हुए 50 लाख के बाल, 10 क्विंटल बालों की 19 बोरियां गायब

कांग्रेस विधायक ने सवाल उठाये कि दुनिया के किसी देश मे जहरीली शराब से मौत नही होती हमारे यहां क्यों होती है ? राजस्थान का जिक्र करते कांग्रेस नेता ने कहा कि राजस्थान में शराब को लेकर विकेंद्रीकृत नीति है और वहां किसी को भी लीकर, हेरिटेज लीकर या वाइन का उत्पादन करना है तो वहां सरलता से लायसेंस मिल जाता है। वहीं मध्यप्रदेश में जो नीति है उसके हिसाब से मुट्ठीभर लोगो का ही नेटवर्क चलता है। उस नीति में यदि परिवर्तन कर दिया जाए तो एक भी मौत ज़हरीली शराब से नही होगी यहां तक कि जहरीली शराब बनेगी ही नही। उन्होंने कहा कि जब विकल्प होगा तो जहरीली शराब का मार्केट खत्म हो जाएगा और शराब के नाम पर होने वाला क्राइम भी कम होगा। उन्होंने कहा कि पालिसी बदली जानी चाहिये और ये मेरा व्यक्तिगत मत है और मैं कांग्रेस में भी इस बात को रखूंगा और पार्टी का जब घोषणा पत्र बनेगा जिसमे हम इस तरह की नीतियां लाएंगे जो ओपन पॉलिसी होगी।

वहीं दिग्विजयसिंह की महत्वकांक्षा के चलते प्रदेश में सरकार चले जाने के सवाल पर उनके भाई लक्ष्मण सिंह ने कहा कि वो बडे पदों पर रहे 10 साल प्रदेश के सीएम रहे और उनके परिवार में सभी अच्छे पदो पर है। ऐसे में जो लोग इस तरह की अफवाह फैला रहे है वो इस तरह की अफवाह न फैलाये। कश्मीर में धारा 370 के हटाने पर कांग्रेस विधायक ने कहा कि वहां धारा 370 हट गई है तो हट गई है और वह दोबारा लागू होगी नही इसलिए उस पर चर्चा करना व्यर्थ है। हालांकि उन्होंने कहा कि कश्मीरी पंडितों को वहां बसाना बहुत आवश्यक है उन्हें उनके हिस्से की जमीन और विकास मिलना चाहिये। वही उन्होंने कहा कि धारा 370 हटाना अटल सरकार के समय से बीजेपी के घोषणा पत्र शामिल है ऐसे कश्मीरी पंडितों को उनका हक दिलाना सरकार की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि पहले कश्मीर में हिन्दू मुस्लिम एक होकर रहते थे लेकिन 1990 के बाद स्थितियों में बदलाव आया था जिसके चलते स्थिति अलग बनी।

इधर, विधायक लक्ष्मण सिंह ने पीएम के चेहरे के रूप ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के सवाल पर कहा कि ममता जी हमारी पार्टी में सांसद रही है। वो बहुत हिम्मत वाली और स्थापित राष्ट्रीय नेता है और उन्होंने कमलनाथ जी सौजन्य भेंट की है। उन्होंने विश्वास जताया कि एक तरह की विचारधारा वाली पार्टी रहेगी तो निश्चित ही 2024 मे परिवर्तन होगा।

यह भी पढ़ें…Chhindwara : नदी पार करते समय बहा बच्चा, हुई मौत