Indore News: दिल्ली भेजे गए सैंपल में मिले UK वैरियंट, 3 दिन में संक्रमण कम नहीं हुआ तो लग सकता है नाइट कर्फ्यू- CM

20 फरवरी को जांच के लिए 106 सैंपल्स(Samples) दिल्ली भेजे गए थे, जिसमें से 6 में UK स्ट्रेन (Strain)की पुष्टि हुई है। बता दें कि ये मरीज 10 से 15 फरवरी के बीच मिले थे।

इंदौर,डेस्क रिपोर्ट। इंदौर में कोरोना वायरस और भी भयानक होता जा रहा है। कोरोना संक्रमण के नए स्ट्रेन ने इंदौर में दस्तक दे दी है। दरअसल, 20 फरवरी को जांच के लिए 106 सैंपल्स दिल्ली भेजे गए थे, जिसमें से 6 में UK स्ट्रेन की पुष्टि हुई है। बता दें कि ये मरीज 10 से 15 फरवरी के बीच मिले थे।

ये भी पढ़े-Jabalpur News : हाईकोर्ट के सामने लोक शिक्षण आयुक्त ने मांगी माफी

संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा ने इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि यह वैरियंट ज्यादा तेजी से फैलता है। इसलिए खतरा है कि कोरोना ज्यादा तेजी से फैल सकता है। इसलिए रोको-टोको अभियान को तेजी और ताकत से लागू करना होगा। उन्होंने आगे कहा कि मामले में सीएम ने बैठक में इसे सख्ती से रोकने के निर्देश दिए हैं। तीन दिन तक संक्रमण की स्थिति को देखा जाएगा, यदि संक्रमण कम नहीं होता है तो नाइट कर्फ्यू पर विचार किया जाएगा। बता दें कि इसके पहले विदेश से आए दो लोगों में UK स्ट्रेन की पुष्टि हुई थी।

संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने सिक्वेंसिंग के लिए सैंपल भेजने के आदेश दिए थे। उन्होंने कहा कोरोना खत्म नहीं हुआ, बल्कि नए केस आ रहे हैं। इसके बाद ही अलग-अलग लेबोरेटरी से चुने गए सौ सैंपल दिल्ली भेजे गए थे। साथ ही ये सैंपल भी अलग-अलग श्रेणी के मरीजों से लिए गए थे। डॉ. सलिल साकल्ले ने पिछले 6 दिनों में सामने आए कोरोना के मामलों का मैपिंग डाटा प्रस्तुत किया था।
इसके साथ दोबारा संक्रमित होने तथा संक्रमितों में एंटी बॉडी लेवल पर भी चर्चा की गई थी। संभागायुक्त ने जिले के एक्टिव कोरोना केस में सिम्टोमेटिक, होम आइसोलेट तथा अस्पताल में इलाज करवा रहे लोगों की जानकारी लेने के भी निर्देश दिए थे।

कोविड नोडल अधिकारी अमित मालाकार से इस बारे में जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि हमने नए स्ट्रेन का पता लगाने के लिए दिल्ली सैंपल भेजे थे। जिनमें नए स्ट्रेन मिले हैं, उनके संपर्क में आने वालों की हिस्ट्री खंगाली जा रही है। इनमें से राजेंद्र नगर का एक, तेजाजी नगर इलाके के तीन, पलासिया क्षेत्र का एक वहीं, प्रेम नगर इलाके का एक पेंशेंट शामिल हैं। स्ट्रेन 10 से लेकर 40 साल के उम्र तक के मरीजों में पाया गया है। ये सभी पुरुष हैं और संक्रमण के बाद होम आइसोलेशन में हैं। इसमें से किसी भी मरीज की विदेश आने-जाने की हिस्ट्री नहीं है। ये मरीज 10 से 15 फरवरी के बीच संक्रमित पाए गए थे।