मुरैना, संजय दीक्षित। मुरैना (Morena) जिले में जहरीली शराब (Poisonous liquor) पीने से कई लोग अपनी जान गवां चुके है। इस तरह की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए जिले के संत गिरी महाराज चंबल आश्रम द्वारा शराबबंदी को लेकर मुहिम चलाई जा रही है। जहां शनिवार को बड़ी संख्या में संत जीवाजी गंज पहुंचे और एसडीएम को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम एक ज्ञापन सौंपा। जिसमें संतों ने जिले की ग्राम पंचायतों में शराब के ठेकों पर रोक लगाने की मांग की है।

यह भी पढ़ें:-Jabalpur News: बीए की छात्रा ने की खुदखुशी, प्रेमी पर लगाए दैहिक शोषण के आरोप 

संत गिरी महाराज चंबल आश्रम द्वारा एसडीएम को सौंपे गए ज्ञापन में बताया गया कि मध्यप्रदेश में शराब के सेवन से हुई घटनाओं से आम जनता भी त्रस्त है। शराब पीने से कई परिवार भी नष्ट हो चुके हैं और कई परिवार नष्ट होने की कगार पर है। ज्ञापन में मांग की गई है कि 2021 और 2022 में मुरैना जिले में किसी भी ग्राम पंचायत में शराब का ठेका न दिया जाए। जिले के साथ-साथ मध्य प्रदेश को भी शराब मुक्त बनाने की मुहिम चलाई जा रही है। जिसमें सर्व समाज का बढ़-चढ़कर योगदान मिल रहा है। जिन ग्राम पंचायतों में सरपंचों के द्वारा हस्ताक्षर किए गए हैं उन ग्राम पंचायतों में नए ठेके न दिए जाएं और पुराने शराब के ठेकों को भी निरस्त किए जाएं।

यह भी पढ़ें:-Jabalpur News: सिटी अस्पताल की शर्मनाक करतूत, कोरोना पीड़ित को पकड़ाया डेढ़ लाख से ज्यादा का बिल, बनाया बंदी

संत हरि गिरि महाराज की शराबबंदी की मुहिम से जुड़े लोगों का कहना है कि मुरैना जिले में सभी ग्राम पंचायतों में शराब के ठेकों पर रोक नहीं लगाई गई तो प्रत्येक ग्राम पंचायत के लोग एकत्रित होकर अवैध शराब तस्करों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। जिसकी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी। अगर मुख्यमंत्री ने हमारी मांगें नही मानी तो सर्व संत समाज और सर्व समाज आंदोलन करेगा।