Madhya Pradesh: नर्मदा घाटी में वैज्ञानिकों ने खोजे डायनासोर के घोंसले, 265 फॉसिल्ड एग्स

रीसेंट रिसर्च के अनुसार, लाखों साल पहले नर्मदा घाटी थी डायनासोर के अंडे देने का क्षेत्र ।

Dinosaur’s Fossil in Narmada Valley: इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, फॉसिल विज्ञानियों के एक समूह ने मध्य प्रदेश की नर्मदा घाटी के धार क्षेत्र में 256 फॉसिल टाइटेनोसॉर अंडे और शाकाहारी टाइटेनोसॉर के 92 घोंसलों का पता लगाया है।

नर्मदा घाटी थी अंडे देने का क्षेत्र

सबसे रीसेंट रिसर्च के अनुसार, लाखों साल पहले नर्मदा घाटी डायनासोर के अंडे देने का क्षेत्र थी। अन्य फॉसिल विज्ञानियों ने पहले मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले और गुजरात के बालासिनोर शहर में डायनासोर के घोंसले और अंडे पाए हैं।

मोहनपुर-कोलकाता, भोपाल और दिल्ली के भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान के फॉसिल विज्ञानियों की एक टीम ने धार जिले के बाग और कुक्षी जिलों के विभिन्न गांवों में फील्डवर्क किया।इस बात की स्ट्रांग संभावना है कि टाइटेनोसॉर या तो नर्मदा घाटी के इस क्षेत्र में विशेष रूप से अंडे जमा करने के लिए गए थे या अंडे भी वहीं फूटे थे।

लीड रिसर्चर धीमान के हवाले से कहा गया है कि उन्होंने जिन अंडों की खोज की उनमें हैचिंग और हैचिंग नहीं होने, दोनों के लक्षण दिखाई दिए। उन्होंने कहा कि कोई हड्डी नहीं मिली है और आगे की जांच के लिए माइक्रो सीटी स्कैन जरूरी है।

नर्मदा घाटी में जो घोंसले मिले थे, वे आपस में सटे हुए थे। इन डायनासोरों ने जो अंडे दिए जिनका डयामीटर 15 से 17 सेंटीमीटर के बीच था। धीमान के अनुसार प्रत्येक घोंसले में एक से बीस अंडे थे।