सिंगरौली: रात के अंधेरे में चल रहा रेत का अवैध कारोबार, पुलिस बनी मूकदर्शक

बन्धौरा चौकी प्रभारी के लिए यह समय महामारी का नहीं बल्कि ऐसा लग रहा है कि यह महामारी उनके लिए अवसर के रूप में सामने हैं और इस अवसर को भुनाने के लिए उन्होंने कानून व अपने आलाधिकारियों को ठेंगा दिखाते हुए क्षेत्र में अवैध रेत व अवैध शराब की बिक्री को खुली छूट दे रखी है।

सिंगरौली

सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार। सिंगरौली (singrauli) जिले के माड़ा थाना के अंतर्गत बन्धौरा चौकी क्षेत्र में अवैध रूप से रेत (illegal sand) का खनन परिवहन करने वाले माफियाओं (mafia) के लिए ना कानून का डर है और ना ही शासन-प्रशासन (administration) का भय है। रहे भी क्यो जब ‘सैया भयो कोतवाल तो डर काहे का।’ कोरोना महामारी (corona pandemic) की वजह सभी काम-काज, व्यापार आदि सब- कुछ बंद था, देश भर में लॉक डाउन भी जारी था। लोग ऐसे में  एक- एक पैसे के लिए मोहताज हैं, गरीबों को खाने के लाले पड़े है। फिर भी ये लोग शासन के नियमों का पालन करते हुए करोना महमारी के डर के कारण अपने घरों पर थे।

यह भी पढ़ें… विश्वास सारंग ने कमलनाथ को दी महत्वपूर्ण सलाह- करें विश्राम

वहीं बन्धौरा चौकी की पुलिस ने अपने पुलिस विभाग के सीनियर अधिकारियों को गुमराह कर कुछ सफेदपोश नेताओं को सह देकर क्षेत्र में अवैध रेत का कारोबार में खुली छूट दे रखी है। जिससे रेत का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। यहां तक कि सूत्र कहते है तथाकथित कुछ भाजपा नेताओं के ट्रैक्टर भी रात के अंधेरे में फर्राटे भरते हैं।

सिंगरौली

यह भी पढ़ें… छिंदवाड़ा: बढ़ती मंहगाई के विरोध में सड़क पर उतरे कांग्रेस कार्यकर्ता

बन्धौरा चौकी प्रभारी के लिए यह समय महामारी का नहीं बल्कि ऐसा लग रहा है कि यह महामारी उनके लिए अवसर के रूप में सामने हैं और इस अवसर को भुनाने के लिए उन्होंने कानून व अपने आलाधिकारियों को ठेंगा दिखाते हुए क्षेत्र में अवैध रेत व अवैध शराब की बिक्री को खुली छूट दे रखी है। कहते है, चौकी क्षेत्र में गर्रा नदी सहित आस पास के तमाम नदी नालों से अवैध रेत का कारोबार रात होते ही शुरू हो जाता है।