क्रिकेटर के घर में घुसकर हमला, गर्भवती महिला पर भी धारदार हथियार से वार

मिश्रा परिवार का आरोप है कि मारपीट के मामले को पुलिस ने उतनी गंभीरता से नहीं लिया है। हत्या की कोशिश के मामले को महज पड़ोसियों के विवाद के नजरिए से देखा जा रहा है।

बिलासपुर, डेस्क रिपोर्ट। छत्तीसगढ़ में पुलिस का खौफ किस कदर लोगों के जेहन में से निकल गया है कि वे कोई भी वारदात करने से डरते नहीं हैं। ताजा मामला एक रणजी क्रिकेट प्लेयर के घर में घुसकर हमले का सामने आया है। बताया जा रहा है कि किसी विवाद के चलते क्रिकेटर के पडोसी इतने नाराज हो गए कि उन्होंने घर में घुसकर मारपीट कर दी इस दौरान उन्होंने घर में मौजूद गर्भवती महिला के सिर पर धारदार हथियार से हमला कर दिया। इतना ही नहीं नाराज़ पड़ोसियों ने घर में आये मेहमान तक को नहीं बख्शा और उसकी भी जमकर पिटाई कर दी।

जानकारी के अनुसार तोरवा निवासी राजेश तिवारी ने सरकंडा थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई है कि वे 27 दिसंबर को सरकंडा थाना क्षेत्र में रहने वाले क्रिकेट प्लेयर अमित मिश्रा के घर गए थे। उन्हें अमित मिश्रा के पिता चन्द्रिका प्रसाद मिश्रा से बैंक एफडी के संबंध में कुछ जानकारी चाहिए थी। चन्द्रिका प्रसाद मिश्रा पूजा कर रहे थे तभी उनके पडोसी गंगाधर मिश्रा आये और उन्होंने चन्द्रिका प्रसाद मिश्रा के घर में पुताई कर रहे व्यक्ति को अपने घर पुताई के लिए ले जाने की कहने लगे।

ये भी पढ़ें – BJP नेता की पीड़ा- निजी अस्पताल की इस लूट को किसकी छूट!

चन्द्रिका प्रसाद ने उनके पूजा करने के बाद पुताई करने वाले को भेजने  के लिए कहा तो गंगाधर आग बबूला हो गए और विवाद करने लगे। शोर सुनकर गंगाधर के भाई उनके बेटे और अन्य लोग रॉड, फावड़ा और अन्य लोग हथियार लेकर आ गए। इन लोगों ने राजेश तिवारी, चंद्रिका प्रसाद, चंद्रिका की पत्नी शशि, बहू प्रतिमा, हितेश मिश्रा, हितेश की बहन मंजू, अमित मिश्रा (रणजी क्रिकेट प्लेयर) की पत्नी सहित, परिवार के अन्य सदस्यों पर हमला कर दिया।

ये भी पढ़ें – लुधियाना कोर्ट ब्लास्ट का मास्टरमाइंड जर्मनी में पकड़ा, मुंबई – दिल्ली भी था टारगेट

हमले में गंभीर रूप से घायल गर्भवती महिला को तत्काल प्रभाव से अस्पताल पहुंचाया गया। वहीं परिवार के अन्य सदस्यों को भी अस्पताल में ही एडमिट किया गया है। घायलों की स्थिति को देखते हुए तत्काल प्रभाव से निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

ये भी पढ़ें – WEATHER UPDATE : मावठ की पहली बारिश से खिले किसानों के चेहरे, मौसम में ठंडक बढ़ी

मामले की शिकायत सरकंडा थाने में की गई। पुलिस ने मामले में गंभीरता दिखाते हुए आईपीसी की धारा 147, 254, 323, 452, और 506 के तहत केस दर्ज कर लिया है। लेकिन मिश्रा परिवार ने पुलिस की कार्यवाही पर असंतोष जताया है। परिवार का आरोप है कि मारपीट के मामले को पुलिस ने उतनी गंभीरता से नहीं लिया है। हत्या की कोशिश के मामले को महज पड़ोसियों के विवाद के नजरिए से देखा जा रहा है। खानापूर्ति के लिए कार्यवाही की गई है।