SBI की छोटी सी गलती की वजह से 15 लोग बन गए लखपति, जाने पूरा मामला

रिपोर्ट के अनुसार, अज्ञात एसबीआई कर्मचारी की कॉपी-पेस्ट गलती से दलित बंधु योजना के लिए धन गलती से लोटस अस्पताल के 15 कर्मचारियों के खातों में जमा हो गया।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। भारतीय स्टेट बैंक के एक कर्मचारी की लिपिकीय त्रुटि के कारण गलत लाभार्थियों को 1.50 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए गए। रिपोर्ट के अनुसार, अज्ञात एसबीआई कर्मचारी की कॉपी-पेस्ट गलती से दलित बंधु योजना के लिए धन गलती से लोटस अस्पताल के 15 कर्मचारियों के खातों में जमा हो गया।

यह भी पढ़ें – क्या आप भी बासी खाने को बार-बार गर्म करके खाना पसंद करते हैं, तो कर रहे हैं बहुत बड़ी गलती

लोटस हॉस्पिटल के प्रत्येक कर्मचारी को उनके वेतन खाते में 10 लाख रुपये मिले। धन तेलंगाना सरकार की दलित बंधु कल्याण योजना के लिए था। हैदराबाद में सैफाबाद पुलिस ने कहा कि एसबीआई रंगारेड्डी जिला कलेक्ट्रेट शाखा के एक कर्मचारी ने 24 अप्रैल को गलती से 1.50 करोड़ रुपये गलत खातों में स्थानांतरित कर दिए।

यह भी पढ़ें – मंगल ग्रह पर दिखा एक रहस्यमई दरवाजा, नासा की टीम कर रही जांच

जिन 15 लोगों के खातों में 10 लाख रुपये आए, उनमें से 14 ने पैसे वापस कर दिए, जबकि महेश नाम के एक लैब टेक्नीशियन ने पैसे वापस नहीं भेजे। “गलती का एहसास होने के तुरंत बाद, बैंक अधिकारियों ने कर्मचारियों को बुलाया और उन्हें राशि वापस स्थानांतरित करने के लिए कहा। 14 कर्मचारियों ने पैसे वापस कर दिए, लेकिन लैब तकनीशियन महेश पैसे वापस भेजने में विफल रहे, क्योंकि वह फोन पर उपलब्ध नहीं थे।

यह भी पढ़ें – अधिकारियों के दबाव में विद्युत लाइन में खंभे पर चढ़ा, लाइनमैन करंट से झुलसा

महेश ने गलत तरीके से मान लिया था कि किसी सरकारी योजना के तहत उनके खाते में 10 लाख रुपये जमा किए गए थे और कुछ पैसे पिछले कर्ज को चुकाने के लिए इस्तेमाल किए गए थे। “बार-बार अनुरोध के बावजूद, वह पैसे नहीं लौटा रहा था। नतीजतन, बुधवार को बैंक अधिकारी ने शिकायत दर्ज की और महेश के खिलाफ आईपीसी की धारा 403 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें – चांद की मिट्टी में उग गया यह खास तरह का पौधा, अब तस्वीरें हो रही वायरल

विडंबना यह है कि जहां सैफाबाद पुलिस ने दुर्घटनावश लाभार्थी के खिलाफ मामला दर्ज किया, वहीं एसबीआई कर्मचारी के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं किया गया, जिसकी गलती ने पूरे भ्रम को जन्म दिया। महेश ने 6.70 लाख रुपये लौटा दिए हैं लेकिन अभी भी बैंक का 3.30 लाख रुपये बकाया है। अधिकारी ने कहा, “बैंक कर्मचारी द्वारा कॉपी-पेस्ट की त्रुटि के कारण इतना बड़ा हंगामा हुआ है।”