उदयपुर हत्याकांड : अंधेरी काल कोठरी में रहेंगे कन्हैया लाल के हत्यारे, घुघरी जेल में सिर्फ फ्लड लाइट का आसरा

अजमेर स्थित जिस जेल में दोनों अपराधियों को रखा गया है, वहां सिर्फ बड़े और खूंखार अपराधियों को ही रखा जाता है। इस हाई सिक्योरिटी जेल में कैदियों को बैरक में बिना लाइट बंद कर रखा जाता है। किसी भी कैदी को परिसर में घूमने तक की इजाजत नहीं है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की निर्मम हत्या करने वाले मुख्य आरोपी रियाज अख्तारी और गौस मोहम्मद को हाई-सिक्योरिटी का हवाला देते हुए अजमेर की घूघरा जेल में शिफ्ट में कर दिया गया है। खुफिया विभाग ने आशंका जताई थी कि दोनों की जिंदगी को खतरा हो सकता है। खुफिया विभाग ने ये चेतावनी कोर्ट में पेशी के बाद दी थी, जिसके बाद दोनों को अजमेर कोर्ट भेज दिया गया है। दोनों आरोपी 13 दिन की न्यायिक हिरासत में हैं।

इस बीच सुरक्षा के मद्देनजर दोनों आरोपियों का जेल के अंदर ही मेडिकल करवाया जाएगा।

नहीं है जेल में घूमने तक की इजाजत

अजमेर स्थित जिस जेल में दोनों अपराधियों को रखा गया है, वहां सिर्फ बड़े और खूंखार अपराधियों को ही रखा जाता है। इस हाई सिक्योरिटी जेल में कैदियों को बैरक में बिना लाइट बंद कर रखा जाता है। किसी भी कैदी को परिसर में घूमने तक की इजाजत नहीं है। एकमात्र लाइट का सहारा फ्लड लाइट है। यहीं कारण है, जो कैदी यहां आने से डरते हैं। जानकारी के मुताबिक, यहां सिर्फ 82 बड़े अपराधियों को रखा गया है।

ये भी पढ़े … सोशल मीडिया पर बिल गेट्स ने किया साउथ सुपरस्टार महेश बाबू को फॉलो

ऐसी जेल बनाने के पीछे का कारण

घूघरा जेल में तीस कोठरियों को चार ब्लॉक में बांटा गया है, जहां देश से चिन्हित कर अपराधी आते है। इसके पीछे का कारण है नेटवर्क को तोड़ना। बेशक, जेल में बदमाश सजा काट रहे हो लेकिन वह अपने धन और बल के दम पर जेलों बंद अन्य कैदियों के साथ गैंग बनाकर अपराधिक गतिविधियों को अंजाम देना शुरू कर देते है। इसी नेटवर्क को जड़ से खत्म करने के लिए अपराधियों को अलग-अलग रखा जाता है।

बार एसोसिएशन ने किया केस न लड़ने का ऐलान

गुरुवार (28 जून) को उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल की आरोपी रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद ने धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या कर दी थी। जिसके बाद उन्हें उदयपुर जिला सत्र न्यायालय में पेश किया गया था। कोर्ट ने दोनों आरोपी को 13 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

ये भी पढ़े … किसी हाई-फाई अस्पताल में नहीं, बल्कि एक वैद्य से मात्र 20 रूपये देकर धोनी करा रहे अपना इलाज

बता दे, इस हत्या के केस को UAPA के तहत दर्ज किया गया है, जिसकी NIA जांच कर रही है। इस दौरान गुरुवार को बार एसोसिएशन ने ऐलान किया कि कोई भी इन आरोपियों का केस नहीं लड़ेगा।