लक्ष्मी पूजा के दिन लक्ष्मी का मर्डर, निर्मम हत्या के बाद 6 साल की मासूम के निकाले दोनों फेफड़े

धारदार हथियार से बच्ची के चेहरे पर वार कर उसकी हत्या की गई थी। साथ ही बच्ची के पैर लाल रंग से रंगे हुए थे, जिसे देख मामला तंत्र मंत्र का प्रतित हो रहा है ।

कानपुर,डेस्क रिपोर्ट। एक तरफ तो शासन-प्रशासन महिला सुरक्षा के वादे करते है, लेकिन दूसरी ओर असल तस्वीर इसके विपरित है। महिलाओं और बच्चियों के प्रति अपराध है कि कम होने का नाम नहीं ले रहे। ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के कानपूर से सामने आय़ा है, जहां 6 साल की लड़की की निर्मम हत्या कर दी गई।

मामला कानपुर के घाटमपुर क्षेत्र के भदरस गांव का है, जहां दिवाली वाली शाम यानी की शनिवार को एक लड़की जिसकी उम्र 6 साल है वो लापता हो गई थी उसका शव खेत में पाया गया। वहीं शव देख पाया गया कि मासूम की निर्मम हत्या में उसके दोनों फेफड़े निकाल लिए गए थे। वहीं धारदार हथियार के बच्ची के चेहरे पर वार किया गया था। वहीं बच्ची के पैर लाल रंग से रंगे हुए थे, जिसे देख मामला तंत्र मंत्र का प्रतीत हो रहा है।

दरअसल, कानपुर से 50 किलोमीटर दूर भदरस गांव में रहने वाले करन कुरील की बेटी जिसका नाम श्रेया उर्फ भूरी जोकि 6 साल की थी वो दिवाली की शाम घर के बाहर खेल रही थी। घर के कुछ लोग खेत में थे और घर की महिलाएं पूजा की तैयारी कर रही थी। वहीं पूजा की तैयारी के दौरान जब महिलाओं ने घर के बच्चों को दीया ऱखने के लिए बुलाया तो तीन में से दो बच्चियां आई पर श्रेया नहीं आई । जिसके बाद श्रेया की उसके घरवालों ने तलाशी शुरु कर दी, पूरी रात बच्ची को उसके घर वाले खोजते रहे पर वो नहीं मिली।

आज सुबह ग्रामीण खेत के लिए निकले तो उन्होंने रास्ते में एक सरसों के खेत में खून से लपटा बच्ची का शव देखा। शव पर कपड़े नहीं थे। शव की सूचना मिलते ही मौके पर बच्ची के घर वाले पहुंचे, जिसके बाद पूरे गांव में सनसनी फैल गई। शव देखने पर पाया गया कि बच्ची के सीने में दो जगह जख्म थे, जिसके बाद आशंका जताई जा रही है कि बच्ची के दोनों फेफड़े निकाल लिए गए है। वहीं बच्ची के पैर में माहुल पाया गया। साथ ही कुछ नमकीन के खाली पैकेट भी शव के पास पाए गए, जिसके बाद आशंका जताई जा रही है कि ये करतूत तांत्रिकों की हो सकती है।

वहीं जैसे ही ग्रामीणों को बच्ची की हत्या के बारे में पता लगा तो वो घटना स्थल पर एकत्रित हो गए है और मांग कर रहे है कि जब तक कोई बड़े अधिकारी नहीं आते तब तक वो शव को उठने नहीं देंगे। वहीं वारदात की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने फोरेंसिक और डॉग स्क्वायड को भी मामले के बारे में सूचित किया। वहीं पूरे मामले को लेकर स्क्वायड यूनिट के प्रभारी ने कहा कि उनके पहुंचने से पहले सैकड़ो लोग घटना स्थल से गुजर चुके थे। जिसके कारण खोजी कुत्ते को मौके पर कोई स्मेल (गंध) नहीं मिली। वहीं मामले की जांच की जा रही है और जल्द आरोपी को पकड़ कर उसपर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here