दिल्ली पहुंचे नीतीश कुमार, प्रतिनिधिमंडल के साथ जाति जनगणना की मांग को लेकर PM मोदी से होगी चर्चा

पीएम मोदी से मुलाकात में नीतीश कुमार के साथ विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी शामिल होंगे। वे दिल्ली में पीएम मोदी से मुलाकात कर देश में जाति के आधार पर जनगणना करवाई जाने की मांग रखेंगे।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश में जाति जनगणना की मांग को लेकर आज बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) कई राजनीतिक दलों के प्रतनिधियों के साथ दिल्ली (New Delhi) पहुंच गए हैं जहां वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मुलाकात करेंगे। इस मुलाकात में तेजस्वी यादव (Tejasvi Yadav) भी शामिल होंगे। नीतीश कुमार ने इसकी पुष्टी करते हुए बताया कि आज वे दिल्ली में पीएम मोदी से मुलाकात कर देश में जाति के आधार पर जनगणना करवाई जाने की मांग रखेंगे। जानकारी के मुताबिक यह मुलाकात सुबह 11 बजे होने जा रही है।

ये भी देखें- CM शिवराज आज दिल्ली दौरे पर, इन मुद्दों पर केंद्रीय मंत्री से करेंगे विशेष चर्चा

आपको बता दें, पीएम मोदी से मुलाकात में नीतीश कुमार के साथ विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी शामिल होंगे। इसके साथ ही प्रदेश सरकार में मंत्री जनक राम व भाजपा के विधायक भी मुलाकात करने के लिए नीतीश कुमार के साथ जाएंगे। इससे पहले नीतीश कुमार ने पीएम से मुलाकात की जानकारी देते हुए बताया कि उनके साथ 10 दलों के प्रतिनिधि साथ जाएंगे। वे पीएम मोदी से अपील करेंगे कि जनगणना को जाति के आधार पर कराया जाए। यह केंद्र पर निर्भर है कि वो इसपर क्या फैसला लेते हैं। उन्होंने कहा कि यदि जाति के आधार पर पूरे देश में जनगणना होती है तो यह काफी फायदेमंद होगी।

ये भी देखें- वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री की तबीयत बिगड़ी, दिल्ली के अस्पताल में कराया भर्ती

आपको बता दें, आगामी वर्ष सात राज्यों में होने वाले चुनावों को देखते हुए जाति आधारित जनगणना की इस चर्चा को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इसके पहले नीतीश कुमार पहले ही साफ कर चुके हैं कि अगर यह बातचीत सफल रहती हैं तो यह बहुत फायदेमंद होगा। अथवा वह बिहार में इसे कराने पर विचार करेंगे। नीतीश कुमार ने कहा, ‘यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा है और हम लंबे समय से इसकी मांग कर रहे हैं। अगर यह हो जाता है, तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता। इसके अलावा, यह सिर्फ बिहार के लिए नहीं होगा, पूरे देश में लोगों को इससे फायदा होगा। इसे कम से कम एक बार किया जाना चाहिए। हम इसपर पीएम मोदी के सामने अपने विचार रखेंगे।’