Modi government 3.0: मध्यमवर्ग के लिए पीएम मोदी का बड़ा बयान, कहा “मिडिल क्लास भारत की ग्रोथ स्टोरी का एक बहुत बड़ा चालक, इनकी बचत कैसे बढ़े इस पर करेंगे विचार”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने वक्तव्य के दौरान कहा कि "गरीब का सशक्तिकरण और मिडिल क्लास को सुविधा  देना यह हमारी सरकार की प्राथमिकता है"।

PM Modi

Modi government 3.0: एनडीए की संसदीय दल बैठक में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनने को लेकर आए प्रस्ताव पर सर्वसम्मति से मुहर लग गई है। सभी ने एक मत होकर नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के लिए चुना है। इसके साथ ही नरेंद्र मोदी जवाहरलाल नेहरू के बाद ऐसे पहले प्रधानमंत्री होंगे जो लगातार तीसरी बार इस पद को संभालेंगे।

प्रधानमंत्री पद के चुने जाने के बाद नरेंद्र मोदी ने सेंट्रल हॉल में बैठे सभी सदस्यों का अभिवादन और धन्यवाद किया। उन्होंने इस पल को बेहद ही भावुक बताया और साथ ही सभी से वादा किया कि जो काम पिछले दो कार्यकाल में किए गए वह सिर्फ ट्रेलर थे असली फिल्म अभी बाकी है। इस दौरान उन्होंने सरकारी योजनाओं सहित कई बातों का उल्लेख किया।

मोदी सरकार के तीसरे टर्म में मिडिल क्लास को मिल सकता है तोहफा  

अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिडिल क्लास को लेकर भी अहम बात कही। उनकी इस बात को सुनकर यह साफ स्पष्ट होता है कि तीसरे कार्यकाल में मिडिल क्लास सरकार की योजनाओं का केंद्र हो सकती है। अगर ऐसा होता है तो यह निश्चित तौर पर मिडिल क्लास के लोगों के लिए बेहद ही तसल्ली और खुशी की खबर है।

मिडिल क्लास को फायदा कैसे हो इस पर होगा विचार 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने वक्तव्य के दौरान कहा कि “गरीब का सशक्तिकरण और मिडिल क्लास को सुविधा  देना यह हमारी सरकार की प्राथमिकता है”। मध्यम वर्ग के बारे में उन्होंने कहा कि मध्यम वर्ग अब इस देश
का बहुत बड़ा चालक है, भारत की ग्रोथ स्टोरी में मिडिल क्लास एक बहुत प्रभावित फोर्स बनने वाला है और इसलिए अब हम अपनी योजनाओं के तहत यह निश्चित करेंगे कि मिडिल क्लास की बचत कैसे बढ़े, उसकी क्वालिटी ऑफ़ लाइफ कैसे और बेहतर हो, हम हमारी योजनाओं का किस तरह विस्तार करें कि मिडिल क्लास को उससे फायदा हो। पीएम मोदी बोले कि हम मिडिल क्लास को फायदा कैसे हो इस दिशा में अपने नियम, नीति में आवश्यक रूप से बदलाव करने पर विचार करेंगे।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ....पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News