राष्ट्रपति चुनाव की तारीख तय, इस दिन होगी राष्ट्रपति पद की वोटिंग

भारत के राष्ट्रपति पद के चुनाव की घोषणा हो चुकी है। चुनाव आयोग के मुताबिक पद के लिए नाॅमिनेशन 29 जून तक ही किए जाऐंगे। आयोग ने यह भी बताया कि आगामी माह की 18 जुलाई को चुनाव की प्रकिया शुरू हो जाएगी, एवं इस चुनाव के नतीजे 21 जुलाई को घोषित किए जाएंगे।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। भारत के राष्ट्रपति पद के चुनाव की घोषणा हो चुकी है। चुनाव आयोग के मुताबिक पद के लिए नाॅमिनेशन 29 जून तक ही किए जाऐंगे। आयोग ने यह भी बताया कि आगामी माह की 18 जुलाई को चुनाव की प्रकिया शुरू हो जाएगी, एवं इस चुनाव के नतीजे 21 जुलाई को घोषित किए जाएंगे।

यह भी पढ़ें – 1 जुलाई से क्या बैन हो जाएगा Amul? PMO को खत लिखकर मांगी राहत

राष्ट्र्पति चुनाव के महत्वपूर्ण नियम
मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि राष्ट्रपति चुनाव में वोट देने आए लोगो को चुनाव आयोग की ओर से पेन दिया जाएगा। मतदान मे उसी पेन का उपयोग अनिवार्य होगा, एवं जो इसका उलंघन करके स्वयं का पेन इस्तेमाल करेगा उसका वोट अमान्य होगा, एवं मतदान पूर्णतः गुप्त होगा। आयोग ने यह भी कहा कि 4033 विधायक एवं 776 सांसद कुल 4809 मतदाता होंगे जो वोट देंगे।

यह भी पढ़ें – AC की वजह से आ रहा बंपर बिल तो यह डिवाइस लगाएं AC में, हो जाएगा आधा बिल

चुनाव में एनडीए की क्या है स्थिति
पिछली बार रामनाथ कोविंद को 65.35 प्रतिशत वोट मिले थे, पिछली बार के अच्छे प्रदर्शन को इस बार भी दोहराने की कोशिश रहेगी। पिछली बार की तरह इस बार भी एनडीए मजबूत मालूम पड़ती है, लेकिन इसे और भी मजबूत बनाने के लिए ओड़िसा एवं आंध्रप्रदेश से भी समर्थन मांग की है। बीजेडी के नवीन पटनायक और वायएस आरसी के जगमोहन रेड्डी से प्रधानमंत्री मोदी ने मुलाकात की है। नवीन पटनायक एवं जगमोहन रेड्डी दोनो ने ही अभी समर्थन की पुष्टि नहीं की है उन्होने कहा कि उम्मीदवार की घोषणा के बाद ही हम समर्थन का फैसला करेंगे।

यह भी पढ़ें – मां की गोदी में सोई बेटी को छीन ले गया तेंदुआ, पिता ने किया लाठी से वार लेकिन..

इस बार चुनाव मे 4 राज्यो की होगी अहम भूमिका
दरअसल 10 जून को होने वाले राज्यसभा की 57 सीटों के चुनाव में 16 सीटों पर चुनाव निर्णायक साबित होगा। 57 में से 41 सीटों पर तो उम्मीदवारों को निर्विरोध चुन लिए जाएगा, लेकिन जो 16 सीटों के चुनाव है उनका फैसला इन चार राज्यों से होना है। हरियाणा, महाराष्ट्र्, कर्नाटक, एवं राजस्थान ये है वो चार राज्य जो 16 सीटों का भविष्य तय करेंगे।