17 दिसंबर को बनेगी शनि-चंद्रमा की युति, होगा अशुभ योग का निर्माण, बढ़ेगी इन 3 राशियों की मुश्किलें, रहें सावधान

Manisha Kumari Pandey
Published on -
Chandra Gochar

Chandra Gochar 2023: चंद्रमा को माता और मन का कारक माना जाता है। इसका संबंध मानसिक स्थिति, धन-संपत्ति, मनोबल, सुख, शांति से भी होता है। वैदिक ज्योतिष शास्त्र में इसे सरल और शांत ग्रह माना जाता है। चंद्रदेव हर सवा दो दिन पर अपना राशि परिवर्तन करते हैं और सभी 12 राशियों को प्रभावित करते हैं। वर्तमान में चंद्रमा धनु राशि में भ्रमण कर रहे हैं। 15 दिसंबर को मकर राशि में गोचर करेंगे। 17 दिसंबर को चंद्रमा मकर राशि से निकलकर कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। इसी राशि में पहले से ही कर्म फल दाता शनि विराजमान है। चंद्रमा और शनि के मिलन से हानिकारक और अशुभ विष योग का निर्माण हो रहा है। विष योग कुछ राशियों के लिए अशुभ रहेगा। सेहत से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। मानसिक तनाव बढ़ सकता है। रिश्तो में तनाव हो सकता है। आइए जानें किन-किन राशियों को संभलकर रहने की जरूरत है-

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों के लिए शनि और चंद्रमा का मिलन अनुकूल नहीं रहेगा। धन खर्च बढ़ने से आर्थिक तंगी हो सकती है। कारोबार से संबंधित कोई भी निर्णय लेने से पहले अच्छे से सोच-विचार कर लें। सफलता के राह में बाधाएं में उत्पन्न होगी। मानसिक तनाव हो सकता है। जीवन साथी के साथ अनबन हो सकती है।

सिंह राशि

सिंह राशि के जातकों के लिए भी विष योग अशुभ साबित होगा। जातकों को धन हानि का सामना करना पड़ सकता है। शनि मुश्किलें बढ़ा सकते हैं। कार्य क्षेत्र में नई चुनौतियां खड़ी हो सकती हैं। सहकर्मियों के साथ संबंध बुरे हो सकते हैं। जिससे मानसिक तनाव बढ़ सकता है। प्रेम संबंध और वैवाहिक संबंध खटास आ सकती है।

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए भी चंद्रमा और शनि की युति अशुभ साबित होगी। जातकों को पर्सनल लाइफ और प्रोफेशनल लाइफ में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। घर-परिवार में लड़ाई-झगड़े बढ़ सकते हैं।

(Disclaimer: इस आलेख का उद्देश्य केवल सामान्य जानकारी साझा करना है। MP Breaking News इन बातों के सत्यता और सटीकता की पुष्टि नहीं करता।)

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News