टेस्ट क्रिकेट में कप्तान बनने वाले दुनिये के 12वें तेज गेंदबाज बने जसप्रीत बुमराह, कपिल देव के बाद भारत के दूसरे

दुनिया के अच्छे-अच्छे गेंदबाजों के घुटने टिकवाने वाले जसप्रीत बुमराह के लिए ये चुनौती बिलकुल भी आसान नहीं होने वाली है क्योंकि भारत अभी तक इंग्लैंड को एडबेजिस्टन के मैदान पर मात नहीं दे पाया है।

मुंबई, डेस्क रिपोर्ट। तीन टी-20, इतने ही वनडे और एक टेस्ट मैच खेलने के लिए इंग्लैंड पहुंची भारतीय क्रिकेट टीम की असली परीक्षा शुक्रवार यानि कि एक जुलाई से शुरू होने वाली है, जहां भारत पिछले साल कोरोना की वजह से स्थगित हुए 5 टेस्ट मैचों की सीरीज के अंतिम एवं निर्णायक मुकाबले में मेजबान इंग्लैंड का सामना एडबेजिस्टन के मैदान पर करेगा। लेकिन इस दौरान भारत को बहुत बड़ा झटका तब लगा, जब भारतीय कप्तान रोहित शर्मा कोरोना संक्रमित होने के चलते इस मुकाबले से बाहर हो गए।

लेकिन अच्छी खबर ये है कि अब टीम की कमान इस महत्वपूर्ण मुकाबले के लिए जसप्रीत बुमराह के हाथों होगी। हालांकि, बुमराह का कप्तान के रूप में ये पहला मुकाबला होने वाला है लेकिन आपको यह जानकर खुशी होगी कि भारत के खतरनाक गेंदबाजों में से एक जसप्रीत बुमराह देश के लिए टेस्ट फॉर्मेट में कप्तानी करने वाले कपिल देव के बाद दूसरे तेज गेंदबाज है, जबकि दुनिया में 12वें। ओवरआल, अगर बात करे तो बुमराह भारत के 36वें टेस्ट कप्तान होंगे।

इन तेज गेंदबाजों ने संभाली अपने देश की कमान

बॉब विलिस (इंग्लैंड)
इमरान खान (पाकिस्तान)
कपिल देव (भारत)
शॉन पोलॉक (साउथ अफ्रीका)
वसीम अकरम (पाकिस्तान)
वकार यूनुस (पाकिस्तान)
कर्टनी वाल्श (वेस्ट इंडीज)
हीथ स्ट्रीक (जिम्बाब्वे)
पेट कमिंस (ऑस्ट्रेलिया)
जेसन होल्डर (वेस्ट इंडीज)
डैरेन सैमी (वेस्ट इंडीज)

ये भी पढ़े … कोहली के बचाव में आए कोच राहुल द्रविड़, कहा- शतक की सफलता की निशानी नही

आसान नहीं होगी चुनौती …

दुनिया के अच्छे-अच्छे गेंदबाजों के घुटने टिकवाने वाले जसप्रीत बुमराह के लिए ये चुनौती बिलकुल भी आसान नहीं होने वाली है क्योंकि भारत अभी तक इंग्लैंड को एडबेजिस्टन के मैदान पर मात नहीं दे पाया है। इस दौरान बुमराह के कंधो पर भारत को 15 साल बाद इंग्लैंड की धरती पर टेस्ट सीरीज जीताने की भी जिम्मेदारी होगी क्योंकि भारत पहले से ही सीरीज में 2-1 की अजेय बढ़त बनाए हुए है, अगर भारत इस मैच को जीतने या ड्रा कराने में सफल होती है तो वह इंग्लैंड में दूसरी बार टेस्ट सीरीज अपने नाम करेगी। इससे पहले राहुल द्रविड़ की कप्तानी में भारत ने 2007 में सीरीज अपने नाम की थी, जो अब भारत के मुख्य कोच की भूमिका में है।