एलन मस्क का गूगल कनेक्शन..को फाउंडर की पत्नी से अफेयर की चर्चा

गूगल के को-फाउंडर सर्गेई ब्रिन ने अपनी पत्नी से तलाक के लिए अर्जी इसलिए डाली है, क्योंकि उनकी पत्नी और मस्क के बीच अफेयर चल रहा है। हालांकि, इस पर एलन मस्क का भी बयान आ गया है। उन्होंने इस खबर को निराधार बताया।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क को शायद कंट्रोवर्सी में रहने की आदत हो गई है। दुनिया के सफलतम बिजनेसमैन होते हुए भी आय दिन उन्हें किसी ना किसी विवाद पर अपनी सफाई देनी पड़ती है। ट्विटर डील कैंसिल होने के बाद उनका स्पेसएक्स (SpaceX) प्रोजेक्ट तबाह हो गया, फिर उसके बाद उनके पिता के अपनी सौतेली बेटी संग संबंध, मस्क के जुड़वा बच्चे होने का खुलासा और अब मस्क के गूगल को-फाउंडर की पत्नी संग अफेयर की चर्चा।

एक अमेरिकी मैगजीन ने उस समय सनसनी मचा दी, जब उन्होंने लिखा कि गूगल के को-फाउंडर सर्गेई ब्रिन ने अपनी पत्नी से तलाक के लिए अर्जी इसलिए डाली है, क्योंकि उनकी पत्नी और मस्क के बीच अफेयर चल रहा है। हालांकि, इस पर एलन मस्क का भी बयान आ गया है। उन्होंने इस खबर को निराधार बताते हुए कहा, “सर्गेई और मैं दोस्त हैं और कल रात एक साथ पार्टी में थे। मैंने तीन साल में केवल दो बार निकोल को देखा है। हमारे बीच कुछ ऐसा नहीं है।”

ये भी पढ़े … रूमर्ड गर्लफ्रेंड लूलिया वंतूर के जन्मदिन में पहुंचे सलमान खान, सामने आई वीडियो

जानकारी के मुताबिक, एलन मस्क और सर्गेई ब्रिन लंबे समय से दोस्त है और इस बीच ब्रिन के सिलिकॉन वैली स्थित घर आते-जाते रहते है। इस दौरान ही उनकी निकोल शनहान से नजदीकियां बढ़ी। इस बात का पता चलते ही सर्गेई ब्रिन ने हाल के महीनों में एलन मस्क की कंपनियों में किए अपने निजी निवेश को भी बेचने के लिए सलाहकारों को निर्देश दिया था।

हालांकि, मस्क की कंपनियों में सर्गेई ब्रिन का कितना निवेश है, इस बात की जानकारी सामने नहीं आई है लेकिन गूगल के को-फाउंडर ने 2008 में टेस्ला में बड़ा निवेश किया था। दुनिया के सबसे आमिर व्यक्तियों की सूचि में सर्गेई ब्रिन आठवें पायदान पर है।

बता दे, एक रिपोर्ट के अनुसार शनहान के साथ मस्क का अफेयर दिसंबर में मियामी में आर्ट बेसल में शुरू हुआ था। इसके बाद मस्क ने एक इवेंट के दौरान ब्रिन से माफी भी मांगी थी। फिलहाल, तलाक की अर्जी डालने के बाद ब्रिन और शनहान एक समझौते पर बातचीत कर रहे हैं। तलाक के लिए शनहान ने एक अरब डॉलर से अधिक की मांग की है।