एमपी में कहर ढा रही गर्मी...आठ हिरण की मौत

देवास|  सूरज की तपन और आग उगलती भीषण गर्मी के इस दौर में जहां आमजन के हाल बेहाल है वही खातेगांव वन क्षेत्र में सूखे नदी नालों के कारण पीने के पानी की तलाश में दर दर भटकते  वन्य प्राणियों की मौत का मामला एक बार फिर प्रकाश में आया|   बुधवार को आठ हिरणों के शव मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई| सूचना मिलने पर वन विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंचे. प्रारंभिक जांच में सामने आया कि भीषण गर्मी के चलते पानी की कमी से हिरणों की मौत हुई है|   इस संबंध में वन विभाग के एसडीओ एस एल यादव से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि मेरे अलावा विभाग के 138 रेंजर से लेकर चौकीदार तक सभी हड़ताल पर हैं मुझे आठ हिरण की मौत की खबर मिली|  हिरणों का PM खातेगांव पशु चिकित्सक डॉक्टर महेश सूर्यवंशी ने किया पश्चात आठों हिरणों का अंतिम संस्कार सनोद नर्सरी में किया गया| 

नर्सरी में पशु चिकित्सक द्वारा किए गए पोस्टमार्टम के अनुसार प्रथम दृष्टया हिरणों की मौत का कारण हीट स्ट्रोक बताया गया| बताया जा रहा है कि मरने वालों हिरणों में चार नर और चार मादा हिरण शामिल थे| वन विभाग के कर्मचारियों ने सन्नोद नर्सरी में ही मृत हिरणों का अंतिम संस्कार कर दिया| 


वन विभाग के अमले से पहले पहुंचा पुलिस एवं ग्रामीणों का दल

ग्रामीण मुन्ना विश्नोई ने बताया कि वन विभाग के अमले को सुबह 8:30 बजे सूचना दे दी थी उसके पश्चात 10:30 बजे वन अमले के लोग पहुंचे इससे पूर्व जैसे ही खातेगांव थाने में हमने सूचना करी थाने से SI गोयल दल बल के साथ मौके पर पहुंचे जहां पुलिस के साथ हम ग्रामीणों ने अलग-अलग स्थानों पर मृत पड़ी हिरणों को एकत्रित किया| इसके पश्चात पशु चिकित्सक एवं वन अमले ने पंचनामा बनाकर हीरोइनों को अंतिम संस्कार के लिए सनोद नर्सरी पहुंचाया|