Breaking News
MP: चुनाव से पहले किसानों को खुश करेगी सरकार, 28 को खाते में आएगा बोनस | एट्रोसिटी एक्ट : सीएम की मंशा पर महिला अधिकारी ने उठाये सवाल, देखिये वीडियो | भाजपा कार्यकर्ता महाकुंभ कल, पोस्टर-कटआउट से नदारद उमा और गौर, मचा बवाल | खुशखबरी : मध्यप्रदेश के युवाओं के लिए सुनहरा मौका, अक्टूबर मे निकलेगी सेना भर्ती रैली | चुनाव से पहले शिवराज कैबिनेट की बैठक में कई बड़े फैसले, इन प्रस्तावों को मिली मंजूरी | शिवराज के बाद अब केंद्रीय मंत्री के बदले स्वर, एट्रोसिटी एक्ट को लेकर दिया ये बयान | पीड़िता का आरोप- एसपी ने मांगा रेप का वीडियो, तब होगी सुनवाई | इंजीनियर पर भड़के मंत्रीजी, सस्पेंड करने की दी धमकी | दो पक्षों में विवाद, पथराव-आगजनी, 2 पुलिसकर्मी समेत 8 घायल, धारा 144 लागू | भाजपा में बगावत शुरु, पदमा शुक्ला के बाद कटनी से दो दर्जन और इस्तीफे |

डबरा शुगर मिल पर किसानों का करोड़ो बकाया ...प्रशासन मौन

ग्वालियर/डबरा| एक ओर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार गन्ना उत्पादक किसानों के हित के लिए एक के बाद एक कदम उठा रहे हैं, राहत पैकेजों की घोषणा कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश का एक कस्बा ऐसा है जहां गन्ना उत्पादक किसान पिछले 10-12 सालों से अपने गन्ने की  राशि के बकाए के लिए परेशान हो रहे हैं। मामला द ग्वालियर शुगर कंपनी लिमिटेड डबरा का है जहां किसानों ने वर्ष 2006 से 2010 के बीच में फैक्ट्री को जो गन्ना दिया उसमें से बहुत बड़ी राशि का भुगतान ही नहीं किया गया ।किसानों ने अनेक बार आंदोलन किए, प्रदर्शन किए लेकिन शुगर फैक्ट्री मालिक  के रसूख और दबदबे के चलते प्रशासन नतमस्तक ही रहा। हालात यह है कि बरसों बीत जाने के बाद भी आज  फैक्ट्री के ऊपर गन्ना उत्पादक किसानों का लगभग 10 करोड रुपए बकाया है लेकिन फैक्टरी प्रबंधन ने एक तो भुगतान नही किया,दूसरी ओर अवैधानिक तरीके से पिछले 6 सालों से फैक्टरी में भी ताला डाल दिया है ।

हैरत की बात यह है कि इस मामले को लेकर ग्वालियर के प्रभारी मंत्री गौरीशंकर बिसेन से लेकर सांसद नरेंद्र सिंह तोमर तक मुखर है । बावजूद इसके प्रशासन को न जाने फैक्ट्री मालिक ने क्या घुट्टी पिला रखी है कि वह उसके आगे नतमस्तक है । इस मामले में शुक्रवार को गन्ना उत्पादक किसानों ने एक बार फिर डबरा एसडीएम प्रदीप शर्मा को ज्ञापन सौंपा और अपने गन्ने की बकाया राशि जल्द दिलवाने की मांग की ।प्रशासन का अगर ऐसा ही रवैया रहा इसका खामियाजा आने वाले विधानसभा चुनाव में सत्ताधारी पार्टी को उठाना पड़ सकता है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...