Breaking News
इग्लैंड में अपना जलवा दिखाने पहुंचे 4 भारतीय दिव्यांग तैराक, इंग्लिश चैनल को करेंगें पार | VIDEO : केरवा कोठी पर भाजपा महिला मोर्चा का प्रदर्शन | सरकार की वादाखिलाफी से नाराज अध्यापकों ने फिर खोला मोर्चा, भोपाल में जंगी प्रदर्शन | NGT की सख्ती के बावजूद CM के गृह जिले में धड़ल्ले से हो रहा अवैध उत्खनन, 11 डंपर जब्त | भाजपा-कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, मानसून सत्र को लेकर होगी चर्चा | जब डॉक्टर के साथ मंत्री जी ने भी उठाया 70 लाख की कार से कचरा, देखें वीडियो | जानिये, जनसंपर्क ने कैसे कराई मोदी की एक साथ सोलह शहरों से बात | शिवराज सरकार ने उड़ाया PM के लाईव कार्यक्रम का मजाक, नपा कर्मचारी को हितग्राही बनाकर करवाई बात | प्रधानमंत्री का लाइव कार्यक्रम बना तमाशा | भाजपा सांसद ने कांग्रेस पार्षद को दी देख लेने की धमकी, देखे वीडियो |

डबरा शुगर मिल पर किसानों का करोड़ो बकाया ...प्रशासन मौन

ग्वालियर/डबरा| एक ओर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार गन्ना उत्पादक किसानों के हित के लिए एक के बाद एक कदम उठा रहे हैं, राहत पैकेजों की घोषणा कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश का एक कस्बा ऐसा है जहां गन्ना उत्पादक किसान पिछले 10-12 सालों से अपने गन्ने की  राशि के बकाए के लिए परेशान हो रहे हैं। मामला द ग्वालियर शुगर कंपनी लिमिटेड डबरा का है जहां किसानों ने वर्ष 2006 से 2010 के बीच में फैक्ट्री को जो गन्ना दिया उसमें से बहुत बड़ी राशि का भुगतान ही नहीं किया गया ।किसानों ने अनेक बार आंदोलन किए, प्रदर्शन किए लेकिन शुगर फैक्ट्री मालिक  के रसूख और दबदबे के चलते प्रशासन नतमस्तक ही रहा। हालात यह है कि बरसों बीत जाने के बाद भी आज  फैक्ट्री के ऊपर गन्ना उत्पादक किसानों का लगभग 10 करोड रुपए बकाया है लेकिन फैक्टरी प्रबंधन ने एक तो भुगतान नही किया,दूसरी ओर अवैधानिक तरीके से पिछले 6 सालों से फैक्टरी में भी ताला डाल दिया है ।

हैरत की बात यह है कि इस मामले को लेकर ग्वालियर के प्रभारी मंत्री गौरीशंकर बिसेन से लेकर सांसद नरेंद्र सिंह तोमर तक मुखर है । बावजूद इसके प्रशासन को न जाने फैक्ट्री मालिक ने क्या घुट्टी पिला रखी है कि वह उसके आगे नतमस्तक है । इस मामले में शुक्रवार को गन्ना उत्पादक किसानों ने एक बार फिर डबरा एसडीएम प्रदीप शर्मा को ज्ञापन सौंपा और अपने गन्ने की बकाया राशि जल्द दिलवाने की मांग की ।प्रशासन का अगर ऐसा ही रवैया रहा इसका खामियाजा आने वाले विधानसभा चुनाव में सत्ताधारी पार्टी को उठाना पड़ सकता है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...