Sahara Refunds: जबलपुर में निवेशक अभिकर्ता हितकारी संघ द्वारा “सफलता का प्रथम कदम” कार्यक्रम कल

Sahara Refunds: निवेशक अभिकर्ता हितकारी संघ लंबे समय से सहारा इंडिया रिफंड्स के लिए लड़ाई लड़ रहा है। इसी क्रम में निवेशकों के भुगतान के लिए किए गए संघर्ष को बताने के उद्देश्य से संघ जबलपुर में कल यानि 1 मई 2023 को मानस भवन राइट में “सफलता का प्रथम कदम” कार्यक्रम आयोजित करने जा रहा है। इस कार्यक्रम में जबलपुर के निवेशकों के साथ प्रशासनिक अधिकारी और जनप्रतिनिधि भाग लेंगें। जबलपुर के जिले के निवेशकों की मेहनत और खून पसीने से कमाई गई राशि को दिलाने और भविष्य की योजना पर रणनीति बनाने के लिए कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है।

निवेशक अभिकर्ता हितकारी संघ जबलपुर जिले के सहारा निवेशको के भुगतान के लिए पिछले 3 वर्षों से लड़ रहा है। संघ द्वारा निवेशकों की बात सरकार तक पहुंचाने के लिए क्रमबद्ध आंदोलन भी किए गए। आंदोलन में संघ के संरक्षक सौरभ नाटी शर्मा, मार्गदर्शक जगतबहादुर सिंह ने निवेशकों प्रतिनिधित्व किया। इसके अलावा इस लड़ाई में जबलपुर के विधायक एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री लखन घनघोरिया, अन्य विधायक विनय सक्सेना, संजय यादव, तरुण भनोत और अन्य कई सामाजिक संगठनों ने अपना पूर्ण सहयोग दिया।

संघ ने निवेशकों की आवाज ऊपर तक पहुंचाने के लिए कई प्रयास किए। जनप्रतिनिधियों, मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री का ध्यान इस समस्या की तरफ खींचने के लिए ज्ञापन भी सौंपे गए। इतना ही नहीं प्रधानमंत्री और सांसद को 15000 पोस्टकार्ड भेजे गए। 15 फरवरी से 1 मार्च को शिकायत शिविर का आयोजन हुआ था। इस दौरान कई इन्वेस्टर्स ने अपनी शिकायत भी दर्ज करवाई थी। 14 मार्च 2023 को विधानसभा का घिराव भी किया गया।  16 मार्च को सहकारिता मंत्रालय और सेंट्रल रजिस्ट्रार को-ऑपरेटिव सोसाइटी ने बैठक के बाद निवेशकों के पक्ष में निर्णय किया। सुप्रीम कोर्ट के सामने सरकार ने निवेशकों का पक्ष रखा और रिफण्ड एकाउंट से 5000 करोड़ की मांग की गई। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने 5000 करोड़ की राशि को देने का आदेश भी जारी किया।

“सफलता का प्रथम कदम” कार्यक्रम में संघ अध्यक्ष कुंदन विश्वकर्मा, उपाध्यक्ष राकेश गुप्ता, जितेंद्र साहू, राजकुमार अग्रहरि, मुकेश रजक, राजेश साहू, संतकुमार कुशवाहा, मुकेश साहू, कमलेश गुप्ता, राजेश साहू, आशीष जैन, जिनेन्द्र जैन, गुरुदयाल चौरसिया, आशीष चौबे, अब्दुल सलाम, अतिक जैन, पूरन लाल गुप्ता, स्वदेश जैन, नीरज गुप्ता और अन्य लोगों ने विशेष योगदान दिया है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News