HDFC बैंक के ग्राहकों के लिए जरूरी खबर, 25 जून से बंद हो जाएगी ये सुविधा, जल्द पूरा कर लें ये काम, जानें डिटेल

HDFC बैंक यूपीआई से जुड़ा बड़ा बदलाव करने जा रहा है। 25 जून से कम वैल्यू वाले ट्रांजेक्शन पर एसएमएस अलर्ट नहीं मिलेगा।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
HDFC Bank

HDFC Bank UPI Changes: एचडीएफसी बैंक ग्राहकों के लिए बड़ी अपडेट सामने आई है। 25 जून से देश का सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक कम वैल्यू वाले यूपीआई ट्रांजेक्शन के लिए एसएमएस अलर्ट नहीं भेजेगा। हालांकि ट्रांजेक्शन अलर्ट की सुविधा ईमेल पर जारी रहेगी। इस बात की जानकारी एसएमएस और ईमेल के जरिए ग्राहकों को दे रहा है।

100 रुपये से कम राशि भेजने पर कोई SMS अलर्ट नहीं

नियमों में बदलाव के बाद जब कोई ग्राहक यूपीआई के जरिए 100 रुपये किसी दूसरे यूजर को भेजेगा तब बैंक द्वारा फोन पर ट्रांजेक्शन अलर्ट का एसएमएस आएगा। वहीं 500 रुपये से अधिक की रकम यूपीआई से प्राप्त करने एसएमएस अलर्ट मिलेगा।

बैंक ने क्यों किया नियमों में बदलाव?

यह बदलाव बैंकिंग मानदंडों के अनुरूप किया गया है। जिसके तहत 5000 रुपये से अधिक के ट्रांजेक्शन के लिए टेस्ट एसएमएस की जरूरत होती है। कई बैंक तो कम वैल्यू वाले डेबिट के लिए भी अलर्ट भेजते हैं। इस फैसले पर एचडीएफसी बैंक का कहना है कि ज्यादातर लोगों ने फ़ीडबैक में कम मूल्य वाले लेनदेन के लिए अलर्ट को उपयोगी नहीं माना है। ऐसा करने से अक्सर सूचनाएं रीपीट होती हैं। प्रत्येक एसएमएस अलर्ट के लिए करीब 0.01 से 0.03 रुपये का खर्च आता है। एक दिन में करीब 40 करोड़ का ट्रांजेक्शन होता है, जिसमें बैंक रोजाना करोड़ों रुपये खर्च कर देता है।

एसएमएस अलर्ट के लिए रजिस्टर करें अपना ईमेल

जो भी ग्राहक कम मूल्य के लिए अलर्ट चाहते हैं, उन्हें अपने अकाउंट से ईमेल आईडी को रजिस्टर करने की सलाह दी जाती है। ग्राहक http://instaservices.hdfcbank.com/ पर जाकर ईमेल आईडी को अपडेट या रजिस्टर कर सकते हैं। इसके लिए केवाईसी अपडेट होना चाहिए। रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और आइडेंटिटी कार्ड (PAN, कस्टमर आईडी, DOB) की जरूरत पड़ेगी।18 वर्ष या अधिक आयु के ग्राहक की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News