Income Tax Return: काम की खबर, क्रेडिट कार्ड यूजर्स ITR फाइल करते समय रखें इन बातों का ख्याल, होगा फायदा, जानें डिटेल

यदि आप क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आईटीआर भरते समय कुछ बातों का ख्याल जरूरी होता है। सही फॉर्म से साथ-साथ अन्य कई बातों का भी ख्याल रखना पड़ता है।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
income tax return

Income Tax Return: इनकम टैक्स रिटर्न भरने की डेडलाइन नजदीक है। 31 जुलाई 2024 तक आईटीआर फाइल न करने पर आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है। आयकर विभाग क्रेडिट कार्ड के टैक्स भुगतान करने की सुविधा प्रदान करता है, जो कई लोगों के लिए बेहतर ऑप्शन साबित हो सकता है। क्रेडिट कार्ड पेमेंट के कई फायदे भी होते हैं। इससे लेट फीस और ब्याज से राहत मिलती है। साथ ही टैक्स पेमेंट भी तुरंत कन्फर्म हो जाता है। आयकर विभाग भी अपने टैक्स रिकॉर्ड को जल्दी अपडेट कर देता है। यदि आप क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आईटीआर भरते समय कुछ बातों का ख्याल जरूरी होता है। Credit Card खर्चों को दिखने के लिए आप इन उपायों को आजमा सकते हैं। विशेषज्ञ की मदद भी ले सकते हैं।

सही फॉर्म चुनना जरूरी 

क्रेडिट कार्ड यूजर्स के लिए सही आईटीआर फॉर्म चुनना बेहद जरूरी होता है। सैलरी, एक हाउस प्रॉपर्टी और अन्य सोर्स से कमाई करने वाले आईटी-1 फॉर्म चुन सकते हैं। बिजनेस या प्रोफेशन से इनकम न कमाने वालों के लिए आईटीआर फॉर्म-2 और बिजनेस या प्रोफेशन के लिए आईटीआर फॉर्म-2 को बेहतर माना जरा हैं।

क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन स्टेटमेंट भी जरूरी 

फॉर्म भरते समय अपने क्रेडिट कार्ड के खर्चों को सही से दिखाना जरूरी होता है। इसके आप वित्तवर्ष 2024 के लिए एक जगह क्रेडिट कार्ड से संबंधित स्टेटमेंट इकट्ठा कर लें। ज्यादातर बैंक या क्रेडिट कार्ड जारी करने वाली कंपनियां हर महीने स्टेटमेंट देते हैं। ट्रांजेक्शन की जानकारी के लिए इसे आप ऑनलाइन निकाल सकते हैं।

खर्चों की अलग सूची बनाने के लाभ 

आईटीआर फ़ाइल करते समय टैक्सपेयर्स क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट में दिए ट्रांजेक्शन की अलग-अलग कैटेगरी बना लें। ऐसा करने से छूट और डीडक्शन को क्लेम करने में सहूलियत होती है। शॉपिंग, ट्रैवल, अकॉमोडेशन, होटल बुकिंग, बिल, सब्स्क्रिप्शन इत्यादि खर्चों की कैटेगरी बनाएं। इसकी मदद से सही छूट का लाभ उठायें। सेक्शन 80डी के तहत हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी प्रीमियम और 80सी के तहत बच्चों की शिक्षा पर छूट मिलती है।

स्क्रूटिनी से बचने के लिए करें ये काम

इनकम टैक्स रिटर्न फ़ाइल करते समय अधिक मूल्य वाले लेनदेन को दिखाना अनिवार्य होता है। यदि आप क्रेडिट कार्ड से हर साल 2 लाख रुपये से अधिक का खर्चा करते हैं टॉ फॉर्म में सारी जानकारी सही-सही भरें। कोई भी गड़बड़ी भारी पड़ सकती है। स्क्रूटिनी हो सकती है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News