UGC NET 2024: बड़ी अपडेट, यूजीसी नेट में जुड़ा नया विषय, दिसंबर सेशन में होगा लागू, सिलेबस भी जारी, पढ़ें पूरी खबर 

यूजीसी नेट में नया विषय जुडने जा रहा है। फिलहाल, 83 विषयों की परीक्षा आयोजित होती है।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
ugc

UGC NET 2024: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यूजीसी नेट परीक्षा में एक नया विषय जोड़ने जा रहा है। आयोग ने 580वीं बैठक में आपदा प्रबंधन (Disater Management) को यूजीसी नेट परीक्षा के नए सब्जेक्ट के रूप में जोड़ने का निर्णय लिया है। सिलेबस भी जारी कर दिया गया है। दिसंबर सेशन में इसे लागू किया जाएगा।

18 जून को यूजीसी नेट जून सेशन

18 जून को एनटीए यूजीसी नेट परीक्षा का आयोजन करने जा रहा है। जिसके लिए एडमिट कार्ड परीक्षा से संबंधित दिशा-निर्देश के साथ जारी हो चुके हैं। परीक्षा दो शिफ्टों में आयोजित होगी। उम्मीदवार ऑफ़िशियल वेबसाइट https://ugcnet.nta.ac.in/ पर जाकर जाकर प्रवेश पत्र डाउनलोड कर सकते हैं।

आपदा प्रबंधन का सिलेबस

  • आपदा प्रबंधन का परिचय
  • आपदा प्रबंधन के लिए अनुसंधान पद्धति
  • कानूनी ढाँचा, नीतियाँ और शासन
  • समाज, विकास और आपदाएं
  • समुदाय आधारित आपदा
  • जोखिम न्यूनीकरण और आपदा प्रबंधन
  • स्वास्थ्य औरआपदाएं
  • पर्यावरण, परिस्थितिकी और जलवायु परिवर्तन के पहलू
  • रिमोट सेन्सिंग और भौगोलिक सूचना प्रणाली
  •  सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी और उभरती प्रौद्योगिकियाँ
  • आपातकालीन प्रतिक्रिया और प्रबंधन

क्या है यूजीसी नेट?

बता दें कि यूजीसी नेट परीक्षा साल में दो बार नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा आयोजित की जाती है। पहला सेशन जून और दूसरा सेशन दिसंबर में होता है। इसमें फिलहाल 83 विषय शामिल हैं। लेकिन दिसंबर सेशन में विषयों की संख्या बढ़कर 84 हो सकती है। भारत में उच्च शिक्षा संस्थानों में व्याख्याता, जूनियर रिसर्च फ़ेलो और सहायक प्रोफेसर पद के स्क्रीनिंग के लिए राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा का आयोजन होता है। इसमें दो पेपर शामिल होते हैं।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News