थलाइवा रजनीकांत को मिला ‘दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड’, बस कंडक्टर से एक्टर तक तय किया सफर

67th National Film Awards : सुपरस्टार रजनीकांत (Rajinikanth) को भारतीय सिनेमा के सबसे प्रतिष्ठित 'दादासाहब फाल्के अवार्ड' से सम्मानित किया गया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। साउथ फिल्म इंडस्ट्री के सुपरस्टार थलाइवा एक्टर रजनीकांत को दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड (Dada Saheb Phalke Award) से सम्मानित किया गया है। आज (25 अक्टूबर) को  दिल्ली के विज्ञान भवन में 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह का आयोजन किया गया जिसमें उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने अभिनेता रजनीकांत को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार दिया। बता दें रजनीकांत ने भारतीय सिनेमा में 45 साल का योगदान दिया है। हालांकी अवार्ड मिलने की घोषणा पहले ही हो गई थी जिसके बाद आज दिल्ली में कार्यक्रम का आयोजन हुआ।

ये भी पढ़ें- देश की बड़ी कंपनी TATA का कर्मचारियों को तोहफा, अब अपनी नौकरी कर सकेंगे ट्रांसफर

इस दौरान रजनीकांत के साथ इस फंक्शन में उनके दामाद धनुष और बेटी ऐश्वर्या भी शामिल हुए। दादा साहेब अवॉर्ड से सम्मानित होने के बाद रजनीकांत ने अपनी जर्नी को याद किया। उन्होंने बस कंडक्टर से एक बेहतरीन एक्टर बनने तक की जर्नी को याद किया और अपने पुराने दोस्तों को शुक्रिया किया जिन्होंने उन्हें फिल्म इंडस्ट्री ज्वाइन करने के लिए कहा था। रजनीकांत ने कहा कि मुझे इस पुरस्कार से सम्मानित करने के लिए मैं भारत सरकार का बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं। मैं ये पुरस्कार अपने गुरू के. बालचंदर, अपने भाई सत्यनारायण राव समर्पित करता हूं। और मेरे मित्र और सहयोगी राज बहादुर को धन्यवाद, जो एक बस ड्राइवर थे, जब मैं बस कंडक्टर था, उन्होंने ही मुझमें एक्टर की पहचान की और मुझे फिल्मों में जाने के लिए प्रोत्साहित किया। इन सभी को ये अवार्ड डेडिकेट कर रहा हूं।”

ये भी पढ़ें- OTT/FILM: नरोत्तम मिश्रा के निर्देश- स्क्रिप्ट दिखाओ, परमिशन पाओ

इसके अलावा कंगना रनौत, मनोज बाजपेयी और धनुष को उनके अभिनय के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिया गया। कंगना रनौत को उनकी दो फिल्मों ‘मणिकर्णिका’ और ‘पंगा’ के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिया गया। वहीं मनोज बाजपेयी को फिल्म ‘भोसले’ और धनुष को उनकी फिल्म असुरन के लिए बेस्ट एक्टर नेशनल फिल्म अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है। सुशांत सिंह राजपूत की ‘फिल्म’ छिछोरे को हिंदी सिनेमा कैटेगरी में सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए चुना गया है।